रोटा वायरस वैक्सीन जिले के स्वास्थ्य केन्द्रों में उपलब्ध

राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम अंतर्गत आज किया जाएगा शुभारंभ

राजनांदगांव : बच्चों के गंभीर दस्त की बीमारी की रोकथाम के लिए अत्यंत कारगर वैक्सीन ‘रोटा वायरस वैक्सीन’ जिले के स्वास्थ्य केन्द्रों में उपलब्ध है। कलेक्टर जय प्रकाश मौर्य के मार्गदर्शन में स्वास्थ्य विभाग राजनांदगांव द्वारा आज 11 जुलाई 2019 को राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम के अंतर्गत रोटा वायरस एवं टीडी (टीटनेस एडल्ट डिप्थीरिया) वैक्सीन का शुभारंभ जिले के सभी स्वास्थ्य केन्द्रों में किया जाएगा।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. मिथलेश चैधरी ने रोटा वायरस के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि रोटा वायरस एक विषाणु है। जिसके कारण बच्चों को गंभीर दस्त की शिकायत होती है एवं इस विषाणु से प्रतिवर्ष भारत में लगभग 78000 बच्चों की मृत्यु हो जाती है। यह वैक्सीन वर्तमान में निजी चिकित्सालयों में 2800 रूपए की दर पर लगाया जाता है।

इस रोटा वायरस वैक्सीन को शासकीय स्वास्थ्य केन्द्रों में निःशुल्क उपलब्ध कराया जाएगा। रोटा वायरस वैक्सीन बच्चों के जन्म के पश्चात् छठवें सप्ताह, दसवें सप्ताह एवं चैदवें सप्ताह में 3 बार नियमित टीकाकरण के दौरान 5 बुंद ड्राॅप पिलाकर प्रतिरक्षित किया जायेगा।

इसके साथ ही आज 11 जुलाई 2019 को शुभारंभ किए जा रहे टीडी (टीटनेस एडल्ट डिप्थीरिया) वैक्सीन से गर्भवती माताओं तथा 10 वर्ष एवं 16 वर्ष के बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। टीडी वैक्सीन लगाने से गर्भवती महिला एवं उसके होने वाले बच्चों को टीटनेस एवं डिप्थीरिया बीमारी से बचाने के लिए शरीर में प्रतिरोधक क्षमता आयेगी।

पिछले कुछ वर्षों में राज्य में 5 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों में डिप्थीरिया के प्रकरण दर्ज हुए है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा बीमारियों के रोकथाम के लिए टीटी वैक्सीन के स्थान पर वर्तमान में टीडी वैक्सीन लगाया जा रहा है। इस वैक्सीन के लगने से बच्चों के रोक प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होगी।

Back to top button