कर्नाटक बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए साथ आए RSS और मुस्लिम संगठन

-चलाया जा रहा है संयुक्त राहत व बचाव अभियान

कोडागू ।

केरल के अलावा कर्नाटक में भी बारिश और बाढ़ से हालात बेहद खराब हैं। कर्नाटक में अब तक 17 लोगों की मौत हो चुकी है। राज्य के कोडागु में बाढ़ का कहर सबसे अधिक बताया जा रहा है। हाल ही में आई रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस जिले से करीब 4,320 असहाय लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला गया था।

राज्य में खोज अभियान लगभग खत्म हो चुका है, लेकिन राहत एवं पुनर्वास राज्य सरकार के सामने बड़ी चुनौती बन चुका है। इन लोगों की मदद के लिए आरएसएस की सेवा भारती और मुसलमानों द्वारा संचालित गैर सरकारी संगठन, उस्मानिया चैरिटेबल ट्रस्ट (भद्रावती) द्वारा एक संयुक्त राहत व बचाव अभियान चलाया जा रहा है, जो लोगों की हर संभव मदद कर रहा है।

०-सामने आया सेवा भारती और उस्मानिया चैरिटेबल ट्रस्ट

राहत शिविर में रह रही कोडागु की निवासी अंजली ने कहा कि अब हम बहुत राहत और आत्मविश्वास महसूस कर रहे हैं। इससे पहले हमें कोई उम्मीद नहीं बची थी। तभी हमारे बीच सेवा भारती और उस्मानिया चैरिटेबल ट्रस्ट के लोग आए और उन्होंने यहां राहत और बचाव अभियान चलाया, जिससे कई लोगों को मदद मिली।

अंजलि ने बताया कि उन्होंने हमें बचाया और यहां राहत शिविर में लेकर आए। इनमें कुछ वृद्ध भी शामिल थे। इस दौरन गंदे और फिसलन वाले इलाकों से गुजरना और पहाड़ियों की ढलानों के नीचे आने वाली धाराओं को पार करना काफी चुनौतीपूर्ण था। अंजलि ने आगे बताया कि आज भी जब मैं उस समय को याद करती हूं, तो डर जाती हूं। लेकिन जब हम सुबह ध्यान और योग करते हैं, तो हम सब में एक नई आशा जन्म लेती है। मैं एक ईसाई हूं फिर भी प्रतिदिन ‘ओम’ का जाप करती हूं।

Back to top button