नहर के पानी से ग्रामीण हलाकान

गेट बंद होने से पानी नहर में ना जाकर वहां खेत में प्रवेश कर लिया है

जैजैपुर : जनपद पंचायत जैजैपुर के अंतर्गत ग्राम पंचायत चिसदा एवं पेंड्री के निवासी हरदेव नगर में बने नहर से वर्षों से परेशान नजर आ रहे हैं, जब चिंसदा एवं पेडरी ग्राम पंचायत जाकर हमारे प्रतिनिधि ने यह देखा

कि नहर फूट जाने से वहां पर लगे धान की फसल लगभग डेढ़ सौ एकड़ में पानी से जलमग्न दिखाई दे रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि नहर में जो गेट है वह हमेशा बंद होने से पानी नहर में ना जाकर वहां खेत में प्रवेश कर लिया है,

जिससे हमारे द्वारा लगाए गए धान का फसल पूर्ण रुप से खराब होने के कगार में हैं ,लगभग 150 एकड़ भूमि में एक छोर से दूसरे छोर देखने पर लबालब पानी ही पानी दिखाई दे रहा है।

यहां तक कि खेतों में पानी लगभग 2 से 3 फीट होने की वजह से पूरा खेत झील में तब्दील हो गया है । यदि कृषक अपने खेतों का मेड को नहीं बांधते तो अनेक मकान इस पानी से क्षतिग्रस्त होने के कगार में खड़े हैं।

नहर विभाग ने आज तक सुध नहीं ली या नहीं वह नहर में लगे गेट को खोलने का प्रयास किया जिनकी वजह से पेंड्री निवासी एवं चिसदा के ग्रामीण इस वजह से परेशान हैं।

यदि नहर का गेट नहीं खोला गया तो उन्हें एक बीज धान नहीं मिल पाएगी इससे शासन को इस ओर ध्यान देना चाहिए कि यथाशीघ्र जो नहर में लगा गेट को खोलकर किसानों को धान की फसल से बर्बादी से बचाया जा सकता है।

सरपंच जोहन का भी कहना है कि लंबे समय से गेट नहीं खुला है नहर का गेट नहीं खुलने से पानी का भराव पूरे खेत में होने के कारण से लोगों का फसल चौपट हो रहा है।

advt
Back to top button