जिन 5 बच्चियों को पाल-पोस रहा था, उनके संग ही 729 बार बलात्कार का आरोप

रूस में एक शख्स पर 729 बार बलात्कार करने का आरोप है। इल्जाम है कि उसने जिन 5 लड़कियों को पाल-पोसकर बड़ा किया, उनके साथ ही वह हर दिन बलात्कार करता था। ये सभी लड़कियां 17 साल से कम उम्र की हैं। स्थानीय मीडिया के मुताबिक, सभी पीड़िताएं अनाथ हैं। उन्हें सरकारी योजना के तहत अनाथालय से इस शख्स के पास भेजा गया था। आरोपी ने इनके परवरिश की जिम्मेदारी ली थी और इसके एवज में उसे सरकार की ओर से फंड भी दिया जाता था। आरोपी ने 5 साल में इन लड़कियों के साथ 729 बार बलात्कार किया। रूस में बलात्कार का दोषी पाए जाने पर अधिकतम 15 साल जेल की सजा का कानून है।

यह मामला उस समय सामने आया, जब इन 5 में से एक लड़की ने अपनी स्कूल टीचर को यह बात बताई। शिक्षक की शिकायत के बाद इस मामले की जांच शुरू हुई। कानूनी कारणों से पुलिस ने अभी आरोपी का नाम सार्वजनिक नहीं किया है। उसके खिलाफ 729 बार बलात्कार करने के अलग-अलग मामले दर्ज किए गए हैं। उसे हिरासत में रखकर उसपर लगे आरोपों की जांच की जा रही है। पुलिस का कहना है कि आरोपी ने 5 में से 4 लड़कियों को रोजाना अपने साथ सेक्स करने के लिए मजबूर किया।

एक जांच अधिकारी ने बताया, ‘जांच के मुताबिक, सितंबर 2012 से फरवरी 2017 के बीच आरोपी ने पांचों पीड़िताओं का गंभीर शारीरिक शोषण किया। जांचकर्ताओं की अपील के बाद अदालत ने आरोपी की गिरफ्तारी का आदेश दिया।’ जिन लड़कियों के साथ कथित तौर पर यह अपराध हुआ, उन्हें एक अनाथालय से बाल पालन गृह भेजा गया था। आरोपी ने उनके पालन-पोषण की जिम्मेदारी ली और उनका अभिभावक बन गया। साइबेरियन टाइम्स ने अपनी एक खबर में बताया है कि सरकार की ओर से बच्चियों की देखभाल के लिए आरोपी को हर महीने प्रति बच्ची 22 हजार रुपये दिए जाते थे।

इसके अलावा स्थानीय बाल कल्याण विभाग पर भी इन लड़कियों के मामले में लापरवाही बरतने का आरोप है। विभाग के खिलाफ भी जांच चल रही है। जांच में यह भी पता लगाया जा रहा है कि विभाग ने 5 जवान लड़कियों को एक अकेले पुरुष के हवाले कैसे कर दिया। कई खबरों में यह भी कहा जा रहा है कि आरोप पहले एक महिला के साथ रहता था और उस महिला ने भी 3 बच्चों की देखभाल का जिम्मा लिया हुआ था। क्षेत्रीय शिक्षा मंत्री का कहना है कि बार-बार हुई जांच में कोई शिकायत नहीं पाई गई थी। उन्होंने बताया कि पांचों लड़कियों को वापस अनाथालय भेज दिया गया है।

Back to top button