BAI का खिलाड़ियों के साथ भेदभाव, साइना ने उठाए सवाल

बाई के प्रेजिडेंट हिमंता बिस्वा सरमा असम बैडमिंटन संघ के भी मुखिया हैं

BAI का खिलाड़ियों के साथ भेदभाव, साइना ने उठाए सवाल

हाल ही में गुवाहाटी में खत्म हुई जूनियर नैशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप में डबल्स प्लेयर्स के साथ हुए भेदभाव को भारत की स्टार सिंगल्स प्लेयर साइना नेहवाल ने भी गलत बताया है। अमूमन विवादों से खुद को दूर रखने वालीं साइना पहली बार भारतीय बैडमिंटन संघ (बाई) के इस ‘डबल स्टैंडर्ड’ पर बयान देते हुए कहा कि डबल्स के खिलाड़ी को भी सिंगल्स के माफिक ही सम्मान मिलना चाहिए।

गुवाहटी में हुई अंडर- 19 नैशनल चैंपियनशिप में सिंगल्स चैंपियंस को असम बैडमिंटन संघ ने इनाम में कार सौंपी, जबकि डबल्स के चैंपियंस को केवल 52 हजार रुपये (प्रत्येक प्लेयर 26 हजार रुपये) इनाम में दिया गया। बाई के प्रेजिडेंट हिमंता बिस्वा सरमा असम बैडमिंटन संघ के भी मुखिया हैं।

साइना की राय
अगर खिलाड़ियों को कार मिल रही है, तो ठीक है। खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के लिए यह अच्छा कदम है। लेकिन अगर सिर्फ सिंगल्स प्लेयर्स को यह सम्मान मिल रहा है और डबल्स को नहीं तो फिर यह गलत है। ऐसा पक्षपात नहीं होना चाहिए। डबल्स में चैंपियन बने खिलाड़ियों को भी वही इनाम मिलना चाहिए, जो सिंगल्स में मिला, क्योंकि डबल्स प्लेयर्स ने भी वही टूर्नमेंट जीता है। हो सकता है आयोजकों को लगा हो कि डबल्स चैंपियंस को भी कार गिफ्ट करने पर उनका बजट बड़ा हो जाता, लेकिन कुछ भी हो ऐसा नहीं होना चाहिए।

डबल्स के खिलाड़ी भी बोले
डबल्स से होने वाले भेदभाव पर पहले सिर्फ ज्वाला गुट्टा की ही प्रतिक्रिया आया करती थी, लेकिन अबकी हुए पक्षपात के खिलाफ अश्विनी पोनप्पा, सिक्की रेड्डी और प्रणव जेरी चोपड़ा ने भी अपनी चुप्पी तोड़ी है। वर्ल्ड मिक्स्ड रैंकिंग्स में सिक्की के साथ 18वीं रैंकिंग्स के शटलर प्रणव ने अपना वाकया याद करते हुए कहा कि 2010 सीनियर नैशनल चैंपियनशिप के दौरान वह भी ऐसे ही पक्षपात का शिकार हुए थे। उन्होंने बताया कि वह चैंपियनशिप भी गुवाहटी में हुई थी।

advt
Back to top button