सायरा बानो के ट्वीट से महाराष्ट्र सरकार एक्शन में, मुख्यमंत्री फड़नवीस करेंगे मुलाकात

इससे पहले बॉलीवुड एक्टर दिलीर कुमार की पत्नी सायरा बानो ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपनी प्रॉपर्टी बचाने के लिए मदद मांगी थाी।

ट्रेजडी किंग दिलीप कुमार की पत्नी सायरा बानो के एक ट्वीट से महाराष्ट्र सरकार एक्शन में आ गई है। सोमवार को राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने कहा कि वह संपत्ति विवाद पर मशहूर अभिनेता और उनकी पत्नी से बात करेंगे और उनकी शंकाओं को दूर करेंगे।


इससे पहले बॉलीवुड एक्टर दिलीर कुमार की पत्नी सायरा बानो ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपनी प्रॉपर्टी बचाने के लिए मदद मांगी थाी।

सायरा बानो ने अपने ट्वीट में लिखा था कि, एक बिल्डर उनकी प्रॉपर्टी हथियाने की कोशिश कर रहा है। यह बिल्डर हाल ही में जेल से रिहा हुआ है।

ऐसे में उन्हें यह डर सता रहा है कि बिल्डर दोबार उन्हें नुकसान पहुंचाने की कोशिश न करें। सायरा बानो ने ट्वीट कर पीएम मोदी से मिलने की इच्छा भी जाहिर की है।

इसलिए मांगी पीएम से मदद

सायरा बानो ने रविवार को दिलीप कुमार के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से यह ट्वीट किया था। उन्होंने लिखा है कि, ‘दिलीप कुमार का पाली हिल और बांद्रा में घर है।

बिल्डर समीर भोजवानी इस प्रॉपर्टी को हड़पने की कोशिश कर रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी, समीर भोजवानी हाल ही में जेल से छूटा है। इसके पहले महाराष्ट्र सीएम देवेंद्र फडणवीस से शिकायत की गई थी।

उनके आश्वासन के बाद भी इस मामले में कोई एक्शन नहीं लिया गया। पद्म विभूषण दिलीप कुमार को डराया जा रहा है। इस सिलसिले में आपसे मिलना चाहती हूं, प्लीज मदद करें।’

सरकारी कर्मचारी कर रहे हैं बिल्डर की मदद

सायरा बानो ने यह जानकारी दी है कि बिल्डर ने प्रॉपर्टी के नकली कागजात भी बनवा लिए हैं। इस काम में कुछ सरकारी कर्मचारी शामिल हैं, जिन्होंने बिल्डर की मदद की हैं।

बता दें सायरा बानो ने इस साल जनवरी में बिल्डर समीर भोजवानी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। बता दें कि, मुंबई पुलिस की इकोनॉमिक ऑफेंस विंग ने इस मामले में भोजवानी के खिलाफ केस दर्ज किया था।

टीम ने भोजवानी के दफ्तर में छापा भी मारा था। छापे में टीम को भोजवानी के दफ्तर से हथियार और फर्जी कागजात भी बरामद हुए थे। इस आधार पर अप्रैल में भोजवानी को गिरफ्तार किया गया था। हाल ही में वह जमानत पर रिहा हुआ है।

advt
Back to top button