सेनेटरी पैड GST फ्री के बाद अब Total फ्री पर चलाएंगे मुहिम – विनोद तिवारी JCCJ

युवा जनता कांग्रेस ने सेनेटरी पैड को GST मुक्त कराने चलाया थी चरणबद्ध मुहिम

देश के सभी सांसदों को पत्र भेज GST हटाने माँगा था समर्थन

समर्थन न देने वाले पुरुष सांसदों को सेनेटरी पैड भेज किया था विरोध

पैदल मार्च, हस्ताक्षर अभियान चला पैड से GSTमुक्त करने चलायी थी मुहिम

राष्ट्रपति,प्रधानमंत्री,वित्तमंत्री को पत्र लिख सेनेटरी पैड से GST हटाने किया था आग्रह

रायपुर : युवा जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के प्रदेश अध्यक्ष विनोद तिवारी ने बताया कि महिलाओं के लिए अतिआवश्यक सेनेटरी नेपकीन पैड पे 12% GST लगाने का हम लोगों द्वारा जम कर विरोध करते हुये छत्तीसगढ़ में चरणबद्ध अभियान चलाया गया था जिसके प्रथम चरण में सबसे पहले प्रधानमंत्री व वित्त मंत्री को पत्र लिख सेनेटरी पैड से GST हटाने मांग की गई थी। द्वितीय चरण में सेनेटरी पैड से GST हटाने हस्ताक्षर अभियान चलाया गया, तृतीय चरण में पैदल मार्च निकाला गया, चौथे चरण में छत्तीसगढ़ के सांसदों से मिल समर्थन पत्र मांगा गया। पांचवे चरण में देश के सभी राज्यसभा, लोकसभा के 769 सांसदों को स्पीड पोस्ट के माध्यम से पत्र भेज सेनेटरी नेपकीन से GST हटाने 15 दिवस में समर्थन पत्र मांगा गया। भेजे गये पत्र में वस्तु स्थिति से अवगत कराते हुये बड़ी ही विनम्रता पूर्वक यह लिखा गया कि अगर आपके द्वारा महिलाओं के लिये अतिआवश्यक सेनेटरी पेड पर से GST हटाने समर्थन पत्र नहीं दिया गया तो समर्थन न देने वालों को विरोध स्वरूप 15 दिवस पश्चात् सेनेटरी पैड स्पीड पोस्ट के माध्यम से भेजे गये 02 महीना गुजर जाने के बावजूद 4 मंत्रीयों के कार्यालय से व 4 सांसदों के अलावा बाकी सांसदों द्वारा समर्थन पत्र नहीं मीला तब

युवा जनता कांग्रेस के कार्यकर्ता जय स्तंभ चैक स्थित मुख्य डाकघर पहुंच अनोखा प्रदर्शन किया दर्जन भर युवाओं ने 6 फीट के पैड पहन रखे थे। अन्य कार्यकर्ता हाथों में सेनेटरी पैड व तखतियां लिये हुये कार्यकर्ताओं के हाथों में 677 सांसदों के नाम से लिफाफे थे देश के जिन सांसदों के द्वारा महिलाओं के लिये अतिआवश्यक सेनेटरी नेपकीन से GST हटाने समर्थन पत्र नहीं दिया गया है उन सभी पुरूष सांसदों को युवा जनता कांग्रेस के कार्यकर्ता के द्वारा स्पीड पोस्ट के माध्यम से सेनेटरी नेपकीन पैड भेज विरोध दर्ज किया गया एवं समर्थन न देने वाली महिला सांसदों को स्पीड पोस्ट के माध्यम से खेद पत्र भेज विरोध दर्ज किया था

युवा जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ ने सभी संगठनों, महिला संगठनों, जागरुक महिलाओ छात्र-छात्राओं से अपील भी कि थी कि कम-से-कम एक सेनेटरी नेपकीन खरीदकर अपने क्षेत्र के सांसद व वित्तमंत्री को भेज 65 करोड़ माताओं बहनों के लिये चलाये जा रहे इस अभियान में शामिल होकर माताओं, बहनों के स्वास्थ्य व जान की रक्षा करने में अपना सहयोग प्रदान करे।

विनोद तिवारी ने इस गंभीर मसले पे कहा था कि आश्चर्य जनक हैं, केन्द्र सरकार सेनेटरी प्रोडक्ट को मेडिकल डिवाइस नहीं मानती है, भाजपा सरकार सेनेटरी नेपकीन विलासिता की वस्तुओ के साथ रखती है, तथा इस पर 12% GST लगा रखी है, जिसके चलते सेनेटरी नेपकीन महंगे हो गये जबकि सरकार को चाहिए कि महिलाओ को मुफ़्त में सेनेटरी नेपकीन उपलब्ध कराए। जब सरकार कन्डोम को मेंडिकल डिवाइस की श्रेणी में रख सकती है तो सेनेटरी नेपकीन को क्यों नही ?

भारत मे महिलाओं के स्वास्थ्य संबंधी आंकड़ों पर नजर डालें तो स्थिति की भयावहता स्पष्ट होती है, गरीबी के चलते ग्रामीण महिलाए सेनेटरी का खर्च नही उठा पाती है तथा माहवारी के वक्त, पुराने कपड़े, राख, मिट्टी आदि वस्तुओं का इस्तेमाल करती हैं, मेडिकल काउन्सिल की रिपोर्ट कहती हैं कि इस तरह की असुरक्षित चीजों के इस्तेमाल से कैंसर तक का खतरा हो सकता हैं। भारत मे पहले से ही महंगे सेनेटरी नेपकीन के कारण 80% महिलाएं इसका उपयोग नही कर पाती अब सरकार द्वारा 12% GST लगाने से नेपकीन और भी मंहगी हो गयी है। अब स्थितियां और भी ज्यादा खतरनाक हो गयी है।

Back to top button