स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 : सबसे तेज़ी से स्वच्छ हो रहा ये शहर

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद ने बुधवार (16 मई) को बड़ी कामयाबी हासिल की गंदगी की वजह से स्मार्ट सिटी की दौड़ से पिछड़ चुके

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद ने बुधवार (16 मई) को बड़ी कामयाबी हासिल कीगंदगी की वजह से स्मार्ट सिटी की दौड़ से पिछड़ चुके.शहर ने स्वच्छ सर्वेक्षण में लंबी छलांग लगाते हुए 36वीं रैंक हासिल की है. साल 2017 में ये रैंकिंग 359 थी. इस छलांग की वजह से ही गाजियाबाद को इंडियाज फास्टेस्ट मूवर बिग सिटी का तमगा मिला है.

मध्य प्रदेश के इंदौर में बुधवार (16 मार्च) को स्वच्छ सर्वेक्षण 2018 की घोषणा की गई. हाउसिंग एंड अर्बन अफेयर्स मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ने नतीजे घोषित करते हुए कहा कि स्वच्छ सर्वेक्षण 2018, 4 जनवरी से 10 मार्च 2018 तक किया था. इसमें 4,203 शहरों का सर्वेक्षण किया गया.

359वें से मिला 36वां स्थान

गाजियाबाद पिछले साल की सूची में 359वें स्थान पर था. जानकारी के मुताबिक, गाजियाबाद को सबसे तेजी के साथ स्वच्छ होने की तरफ अग्रसर शहरों में पहला स्थान मिला है. चार हजार से ज्यादा शहरों के साथ प्रतिस्पर्धा करते हुए गाजियाबाद अब 36वें स्थान पर पहुंच गया है.

यूपी बढ़ रहा है आगे

केंद्रीय शहरी विकास राज्यमंत्री हरदीप सिंह पुरी ने स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में उल्लेखनीय प्रदर्शन करने वाले प्रमुख शहरों की सूची जारी की. गाजियाबाद के साथ अलीगढ़ ने भी साफ सफाई के मामले में नए तौर तरीके अपनाने वाली श्रेणी में पहला स्थान हासिल किया है.

स्वच्छता में भोपाल-इंदौर अव्वल

स्वच्छता के लिए मध्यप्रदेश का शहर इंदौर नंबर एक स्थान पर है, वहीं भोपाल को लगातार दूसरे साल भी भारत का दूसरा सबसे स्वच्छ शहर माना गया है. चंडीगढ़ को तीसरे सबसे साफ शहर की रैंकिंग में रखा गया है. स्वच्छ सर्वेक्षण 2018 की रिपोर्ट के मुताबिक, स्वच्छ सर्वेक्षण में उत्तर प्रदेश का गाजियाबाद देश का पहला ऐसा शहर बना जिसने अपनी रैंकिंग में सबसे तेजी से सुधारी है.

Back to top button