SC, OBC की उपेक्षा कर सरोज पाण्डेय को राज्यसभा सदस्य निर्वाचित किया गया

महासमुंद : अनुसूचित जाति वर्ग के भाजपा के राज्यसभा सदस्य भूषणलाल जांगडे के प्रथम कार्यकाल की समाप्ति के उपरांत उन्हें पुनः प्रत्याशी नहीं बनाया गया। छत्तीसगढ़ राज्य गठन के बाद अनुसूचित जाति वर्ग से जांगडे को भाजपा के द्वारा राज्य सभा का सदस्य निर्वाचित किया गया था। वर्तमान में भाजपा के अजजा वर्ग के नंदकुमार साय एवं रामविचार नेताम और उच्च वर्ग से रणविजय सिंह जुदेव राज्य सभा सदस्य है।

भाजपा के द्वारा राज्य गठन के उपरांत आज पर्यन्त अन्य पिछड़े वर्ग के किसी को राज्य सभा का सदस्य नहीं बनाया गया। प्राप्त जानकारी के अनुसार अन्य पिछड़े वर्ग के व्यक्ति को राज्यसभा में निर्वाचित कराने के उद्देश्य से पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एवं भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष, वरिष्ठ नेता धरमलाल कौशिक को राज्य सभा का प्रत्याशी घोषित करने पर भाजपा के राज्यसभा के लिए राष्ट्रीय चयन समिति में सहमति हुई थी। तदानुसार मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह एवं प्रदेशाध्यक्ष धरमलाल कौशिक को सूचित किया गया।

सूचना के आधार पर कौशिक के लिए राज्यसभा सदस्य के निर्वाचन के लिए आवेदन पत्र छ.ग. विधानसभा सचिवालय से क्रय किया गया। लेकिन कौशिक का अपमान करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के हस्तक्षेप से कौशिक के स्थान पर सरोज पांडे मूलतः बिहार प्रदेश को प्रत्याशी बनाया गया और विजयी बनाने के लिए मतदाताओं का पर्याप्त संख्या बल के उपरांत भाजपा के बाहर के 02 मतदाताओं का समर्थन प्राप्त किया गया।

राजनीति में बगैर स्वार्थसिद्धि के कोई उपकार नहीं किया जाता है जिससे स्वाभाविक है कि समर्थन निःशर्त प्राप्त नहीं किया गया होगा। भाजपा के द्वारा पाण्डेय को नगर निगम दुर्ग का अध्यक्ष निर्वाचित करवाया गया। अध्यक्ष पद में रहते हुए विधानसभा का सदस्य निर्वाचित कराया गया। वर्ष 2009 में लोकसभा का सदस्य निर्वाचित कराया गया। वर्ष 2014 में पुनः प्रत्याशी घोषित किया गया लेकिन उन्हें पराजय का सामना करना पड़ा। पराजय के बाद उन्हें भाजपा का राष्ट्रीय महासचिव नामांकित किया गया। इस प्रकार भाजपा का पाण्डेय के उपर लगातार उपकार किया जा रहा है और अनुसूचित जाति वर्ग के भूषणलाल जांगडे एवं अन्य पिछड़े वर्ग के धरमलाल कौशिक की उपेक्षा किया गया।

advt
Back to top button