बिहार में एनडीए में सीटों के बंटबारे को लेकर पेंच बरकरार

.लोजपा सात सीटों की कर रही दावेदारी

नई दिल्ली।

बिहार में एनडीए में सीटों के बंटवारे को लेकर पेंच बरकरार है। गुरुवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ हुई लोजपा अध्यक्ष रामविलास पासवान की बैठक भी बेनतीजा रही। गठबंधन के दूसरे बड़े दल जदयू के अध्यक्ष व बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शुक्रवार को दिल्ली आ रहे है। नीतीश की पहले भाजपा नेताओं से और उसके बाद तीनों दलों की आपस में बैठक होने की संभावना है।

रालोसपा के एनडीए से जाने के बाद भी सीटों के बंटवारे में हो रही देरी पर लोजपा का दबाब काम कर गया है। लोजपा के संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान की अघोषित चेतावनी के बाद सक्रिय हुई भाजपा ने गुरुवार को लोजपा नेताओं से संपर्क साधा। पार्टी महासचिव व बिहार के प्रभारी भूपेंद्र यादव ने रामविलास पासवान के आवास पर जाकर उनसे मुलाकात की। इस दौरान चिराग पासवान भी मौजूद रहे। यहां से यह सभी नेता भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के आवास पर पहुंचे।

बैठक के बाद भी दिखा चेहरों पर तनाव

शाह के आवास पर लगभग एक घंटे तक बैठक चली। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली भी शाह के आवास पर पहुंचे और बैठक में शामिल रहे। सूत्रों के अनुसार लोजपा पिछली बार जितनी ही यानी सात सीटों पर दावा जता रही है। साथ ही एक राज्यसभा सीट भी मांग रही है। राज्यसभा सीट का वादा होने पर लोकसभा सीटें कम भी हो सकती हैं। बैठक के बाद किसी भी नेता ने कोई टिप्पणी नहीं की। बैठक से बाहर निकले नेताओं के चेहरों की गंभीरता से लग रहा था कि कुछ और पेंच भी फंसे हुए हैं।

फिर से सीटें चिह्नित होने से बढ़ी समस्या

इसके साथ एक समस्या और सामने आई है। जदयू के साथ आने के बाद सीटों की संख्या फिर से तय होने के साथ हर दल के हिस्से की सीटों को नए सिरे से चिन्हित किया जाना है। इसमें लोजपा की सीटें भी प्रभावित हो रही है। यह भाजपा के लिए भी चुनौतीपूर्ण है, क्योंकि अभी उसके 22 सदस्य हैं, जबकि गठबंधन के बाद 17 सीटें ही हिस्से में आई हैं। ऐसे में पांच सदस्यों की सीटें कटना तय है। वहीं जदयू सामाजिक और क्षेत्रीय समीकरणों के आधार पर 2009 के फार्मूले के आधार पर सीटों का बंटवारा करने के लिए दबाव बना रही है।

चिराग ने चिट्ठी लिख बढ़ाई परेशानी

लोकजनशक्ति पार्टी संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्तमंत्री अरुण जेटली को पत्र लिखकर राफेल सौदे की सच्चाई के साथ नोटबंदी से हुए लाभ की जानकारी मांगी थी। उन्होंने किसानों की कर्जमाफी और राष्ट्रीय युवा आयोग के गठन पर भी सरकार का रुख जानना चाहा था। चारों बिंदुओं पर विपक्षी दलों को जवाब देने के बहाने जानकारी मांगी गई थी। लोजपा के बिहार प्रदेश प्रवक्ता अशरफ अंसारी ने पत्र लिखे जाने की पुष्टि की है।

28 अगस्त की बैठक का दिया हवाला

चिराग ने पत्र में कहा 28 अगस्त को भी भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव के साथ हुई मुलाकात में किसानों की कर्जमाफी की मांग लोजपा ने की थी। उन्होंने कहा, राष्ट्रीय युवा आयोग के गठन की मांग पार्टी शुरू से करती रही है, लेकिन अब तक इन मसलों पर कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई है।

new jindal advt tree advt
Back to top button