सतलोक आश्रम के संचालक पर SC आज सुनाएगा फैसला, तीन कि.मी. तक सुरक्षा घेरा

आसाराम ही नहीं, रेप, हत्‍या और धोखाधड़ी के मामलों में फंस चुके हैं ये बाबा

नई दिल्ली:

जेल में बंद बरवाला के सतलोक आश्रम के संचालक बाबा रामपाल पर सुप्रीम कोर्ट आज अपना फैसला सुनाएगा। बताया जा रहा है कि सुनवाई के दौरान कोर्ट से तीन किलोमीटर का सुरक्षा घेरा बनाया गया है। इसके मद्देनजर हिसार और आसपास बेहद कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। इस सुरक्षा घेरे में किसी भी बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर पूर्ण रूप से पाबंदी होगी।

कहा जा रहा है कि कानून व्यवस्था की स्थिति को बनाए रखने के लिए राजस्थान, पंजाब, मध्यप्रदेश और हरियाणा से विभिन्न हिस्सों से हिसार आने वाली ट्रेनों का संचालन नहीं होगा। रामपाल पर 24 अगस्त को फैसला आना था लेकिन राम रहीम के मामले को देखते हुए सुरक्षा कारणों से इसे टाल दिया गया और अब 11अक्टूबर को इसपर फैसला सुनाया जाएगा।

वहीं रामपाल पर देशद्रोह के मामले में 19 नवंबर को सुनवाई होगी। सुनवाई वाले दिन शहर में कई जगहों पर रूट डाइवर्ट रहेगा। दिल्ली रोड और राजगढ़ रोड और साउथ बाईपास पर रूट डाइवर्ट किया जाएगा। सुनवाई से 48 घंटे पहले ही जिले की सभी सीमाएं सील कर दी गई है।

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने जारी की फर्जी बाबाओं की तीसरी सूची

कहा जा रहा है कि रामपाल के समर्थक किसी तरह की कानून व्यवस्था ना बिगाड़ पाए इसके लिए पहले से ही तैयारियां कर ली गई है। तमाम पुलिस जवानों की ड्यूटी लगाई गई है।पुलिस प्रशासन ने अभी से ही सभी तैयारियां करते हुए पुलिसकर्मियों को जगह-जगह तैनात कर दिया है। इसके अलावा आरएएफ की पांच कंपनियों को हिसार बुला लिया है।

प्रशासन ने मामले को गंभीरता से लेते हुए रैपिड एक्शन फोर्स की कंपनियां मांगी हैं। प्रदेश सरकार ने हिसार में पांच कंपनियों की तैनाती करने की बात मान ली है। प्रदेश सरकार ने बाहरी जिलों से भी पुलिस बल यहां भेजा है।

Back to top button