बारिश की कीचड़ बना स्कूली बच्चों की मुसीबत

ज्ञात हो कि एक ओर शासन प्रशासन द्वारा शिक्षा व्यवस्था सुधार एवं प्रचार के लिए तरह-तरह के योजनाएं चला रही है

बिलाईगढ / भटगांव : इन दिनों प्रदेश में छात्र छात्राओं का एक तरफ शाला में प्रवेश उत्सव चल रहा है वही सरसीवां ग्राम पंचायत स्थित शासकीय प्राथमिक शाला रामनगर के शाला भवन के सामने कीचड़ से लबालब है .

साथ ही साथ पानी निकासी की जगह नहीं होने के कारण पानी भर जा रहे हैं । इसी तरह बाजार चौक स्थित प्राथमिक स्कूल के सामने भी गड्डा होने से पानी भर जाता है एवँ कीचड़ से सराबोर हो जाता है ।

यहाँ भी बच्चों को स्कूल जाने के लिए इसी कीचड़ से होकर गुजरना पड़ता है। यह विद्यालय अंचल का सबसे पुराना स्कूल है । जिससे मजबूरन बच्चों को कीचड़ से चलते हुए स्कूल जाना पड़ रहा है

एवं पानी निकासी नहीं होने के कारण एक जगह पानी भर जा रहा है जिस से कई तरह के कीड़े मकोड़े उत्पन्न होने का खतरा हमेशा बना रहता है साथ ही बच्चों के स्वास्थ्य को भी बीमारियों का खतरा बना रहता है

उल्लेखनीय है कि प्राथमिक शाला रामनगर स्कूल से लगभग 20 से 30 मीटर की दूरी पर ही पंचायत भवन है जिसमें आए दिन सरपंच उपसरपंच एवं पंचों और अधिकारियों का भी आना जाना लगा रहता है

लेकिन देख कर भी अनदेखा करते नजर आ रहे हैं । यह स्कूल बीच बस्ती में स्थित है जिससे लोगों का भी आना जाना होता है जिससे कीचड़ से ग्रामीणों को भी गुजरना होता है एवँ पानी के रुकने से स्वास्थ्य खराब होने का डर हमेशा लगा रहता है

ज्ञात हो कि एक ओर शासन प्रशासन द्वारा शिक्षा व्यवस्था सुधार एवं प्रचार के लिए तरह-तरह के योजनाएं चला रही है जिससे बच्चों को अच्छी शिक्षा मिल सके ।

लेकिन यहां देखने को मिल रहा है कि विद्यालयों के सामने बड़े बड़े गड्डे है जो कि पानी से भरा हुआ है एवँ कीचड़ से सराबोर है जिससे बच्चों को को स्कूल जाने के लिए कीचड़ से होकर गुजरना पड़ता है ।

Back to top button