राज्य

18 जनवरी से फिर खुलेंगे स्कूल, कॉलेज और कोचिंग सेंटर-राजस्‍थान सरकार

रिकवरी दर 96.31% के सभी उच्च स्तर तक बढ़ गई है।

नई दिल्‍ली: राजस्थान सरकार ने राज्य में सक्रिय कोविड-19 मामलों की घटती संख्या को देखते हुए 18 जनवरी से स्कूल, कॉलेज और कोचिंग सेंटर फिर से खोलने का फैसला किया है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार शाम को कोरोना की समीक्षा बैठक के बाद कक्षा 9वीं से 12वीं के छात्रों के लिए, अंतिम वर्ष के छात्रों के लिए कॉलेज, कोचिंग संस्थान और सरकारी प्रशिक्षण संस्थान खोलने के निर्देश दिए।

साथ ही मेडिकल कॉलेजों, डेंटल कॉलेजों, नर्सिंग कॉलेजों और पैरामेडिकल कॉलेजों को भी 11 जनवरी से खोलने का निर्देश दिया गया ताकि टीकाकरण अभियान को आगे बढ़ाया जा सके।

सीएम ने कहा कि सोशल डिस्‍टेंसिंग सुनिश्चित करने के लिए सभी शैक्षणिक संस्थान पहले दिन 50% छात्रों और प्रत्येक कक्षा में दूसरे दिन शेष 50% छात्रों को पढ़ाएंगे। कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा शिक्षकों को आवश्यक प्रशिक्षण दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि केंद्रीय दिशा-निर्देशों और एसओपी के अनुसार सभी संस्थानों में सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क पहनने सहित सभी कोरोना वायरस रोकथाम प्रोटोकॉल सुनिश्चित करें।

गहलोत ने कहा, ‘देश में और राज्य में नए कोविड-19 स्‍ट्रेन की उपस्थिति चिंता का विषय है। किसी भी तरह की लापरवाही बड़ा संकट खड़ी कर सकती है। इसे देखते हुए, विदेश से राज्य में आने वाले यात्रियों की विशेष निगरानी की जानी चाहिए, जिनमें वायरस से प्रभावित लोग भी शामिल हैं।’

सीएम ने कहा कि राजस्थान में कोरोना वायरस की स्थिति लोगों के प्रभावी प्रबंधन और सहयोग के कारण बहुत हद तक नियंत्रण में थी। रिकवरी दर 96.31% के सभी उच्च स्तर तक बढ़ गई है।

गहलोत ने कहा कि राज्य में टीकाकरण अभियान की तैयारी मिशन मोड में पूरी की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के पूरे डेटाबेस को जल्द से जल्द अपलोड किया जाना चाहिए।

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री डॉक्‍टर रघु शर्मा ने कहा कि कोरोना वायरस के नए तनाव को लेकर राज्य में विशेष सतर्कता बरती जा रही है। चिकित्सा विभाग यूके से यात्रियों के संपर्क ट्रेसिंग और स्क्रीनिंग का संचालन कर रहा है और दिल्ली में भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) प्रयोगशाला में परीक्षण के लिए नमूने भेज रहा है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button