31 मई तक बंद रहेंगे स्कूल, कॉलेज और शैक्षणिक संस्थान

कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस राज्य की सरकार ने लिया फैसला

श्रीनगर: देशभर में में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार तेजी से बढ़ रही है। हालात दिन ब दिन काबू से बाहर होते नजर आ रही है। तेजी से बढ़ती मरीजों की संख्या के चलते अस्पतालों की व्यवस्था बिगड़ गई है। मरीजों को बेड और अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए भटकना पड़ रहा है। हालात पर नियंत्रण करने के लिए कई राज्यों में लॉकडाउन लगा दिया गया है। इसी बीच हालात को देखते हुए जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने भी बड़ा फैसला लिया है।

मिली जानकारी के अनुसार सभी स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय, तकनीकी / कौशल विकास केंद्रों को जम्मू-कश्मीर में 31 मई तक बंद कर दिया गया है। मौजूदा समय में 11 जिलों में गुरुवार शाम सात बजे से सोमवार सुबह सात बजे तक लॉकडाउन लगाने का फैसला किया गया है। श्रीनगर, अनंतनाग, बारामुला, गांदरबल, जम्मू, कठुआ, रियासी, ऊधमपुर, बड़गाम, कुलगाम और पुलवामा में पांच दिन का लॉकडाउन लगाया गया है।

ज्ञात हो कि देश में एक दिन में कोविड-19 के रिकॉर्ड 3,689 मरीजों की मौत होने के बाद मृतक संख्या 2,15,542 हो गई है। वहीं 3,92,488 और लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि होने के बाद संक्रमण के कुल मामले बढ़ कर 1,95,57,457 हो गए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के रविवार तक के आंकड़ों में यह जानकारी मिली है। सुबह आठ बजे तक के इन आंकड़ों के मुताबिक देश में कोरोना वायरस के संक्रमण का अब भी इलाज करा रहे लोगों की संख्या 33 लाख के पार चली गई है।

लगातार तेजी से बढ़ रहे मामलों के बीच, इलाज करा रहे मरीजों की संख्या बढ़कर 33,49,644 हो गई है जो संक्रमण के कुल मामलों का 17.13 प्रतिशत है जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर और गिरकर 81.77 प्रतिशत हो गई है। बीमारी से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या 1,59,92,271 हो गई है जबकि इससे मृत्यु दर भी घटकर 1.10 प्रतिशत हो गई है। देश में कोविड-19 के मरीजों की संख्या पिछले साल सात अगस्त को 20 लाख को पार कर गई थी। वहीं कोविड-19 मरीजों की संख्या 23 अगस्त को 30 लाख, पांच सितंबर को 40 लाख और 16 सितंबर को 50 लाख के आंकड़े को पार कर गई थी।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button