इन स्टेप्स से करें अपने WhatsApp का निज़ी डाटा सुरक्षित

हैकर्स भी नहीं कर पाएंगे आपके अकाउंट से छेड़छाड़

नई दिल्ली। WhatsApp का इस्तेमाल आज की डेट में लगभग हर यूजर करता हैं। इसके जरिए यूजर्स एक दूसरे को टेक्सट मैसेजेज, फोटोज़, वीडियोज़, निजी डाटा आदि शेयर कर सकता हैं। लेकिन अगर यूजर का अकाउंट हैक हो जाए तो इससे हैकर्स किसी भी यूजर की जानकारी हैक कर सकते हैं। ऐसे में यूजर्स के अकाउंट को सुरक्षित रखने के लिए हम 6 तरीके बता रहे हैं। इससे हैकर्स आपके अकाउंट से छेड़छाड़ नहीं कर पाएंगे।

टू-स्टेप वेरिफिकेशन:

WhatsApp में टू-स्टेप वेरिफिकेशन फीचर दिया गया हैं। इससे अकाउटं की सुरक्षा में एक अतिरिक्त लेयर जुड़ जाती है। इसे फोन की सेटिंग्स में जाकर एक्टिवेट किया जा सकता हैं। इसके लिए यूजर्स को सेटिंग्स में जाना होगा।

इसके बाद अकाउंट में जाकर टू-स्टेप वेरिफिकेशन पर टैप कर एक्टिवेट पर टैप करना होगा। यूजर्स को एक 6 डिजिट का पिन सेट करना होगा। साथ ही इमेल एड्रेस की जानकारी भी देनी होगी। ऐसे में अगर यूजर पिन भूल जाता है तो ईमेल के जरिए पिन अकाउंट खोला जा सकता हैं।

एनक्रिप्शन:

WhatsApp यूजर के डाटा का बैकअप गूगल ड्राइव या iCloud में सेव कर रखता हैं। इससे यूजर्स जब भी दोबारा WhatsApp इंस्टॉल करेंगे तो अपनी पुरानी चैट और मीडिया कंटेंट को डाउनलोड कर पाएंगे। WhatsApp यूजर की चैट को एनक्रिप्ट कर रखता है। लेकिन बैकअप में एनक्रिप्शन नहीं होता हैं।

यानी हैकर्स यूजर के बैक को आसानी से कॉपी कर सकते हैं और पढ़ भी सकते हैं। ऐसे में बैकअप को डीएक्टिवेट करने के लिए यूजर को सेटिंग्स में जाना होगा। फिर चैट्स पर टैप कर Backup by choosing Never पर टैप करना होगा। इस फीचर को डिसेबल करने से यूजर अपनी पुरानी चैट्स रिकवर नहीं कर पाएंगे।

वेब वर्जन:

अगर यूजर WhatsApp Web का इस्तेमाल कर रहा है तो उसे यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए की जिस प्लेटफॉर्म को वो इस्तेमाल कर रहे हैं वो WhatsApp की ऑफिशियल वेबसाइट हैं या नहीं। आपको बता दें कि कई ऐसे वेबसाइट भी हैं जो WhatsApp की ऑफिशियल वेबसाइट होने का दावा करती हैं।

लेकिन वो WhatsApp की तरह प्रोटेक्शन और यूजर सिक्योरिटी उपलब्ध नहीं कराती हैं। अगर यूजर कोई भी डिवाइस WhatsApp के लिए इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं तो उन्हें हर बार हर सेशन को लॉगआउट करना होगा।

फोटो:

अगर किसी के फोन में आपका नंबर सेव हैं तो वो आपकी प्रोफाइल पिक्चर देख सकता हैं। साथ ही आपकी फोटो को डाउनलोड भी कर सकता हैं। वहीं, गूगल इमेज सर्च के जरिए यूजर की जानकारी भी ले सकता हैं।

इसके लिए यूजर्स को सेटिंग्स में जाकर अकाउंट पर टैप कर प्राइवसी में जाना होगा। यहां से यूजर अपनी प्रोफाइल पिक्चर को ब्लॉक कर सकते हैं जिससे जो उनके कॉन्टेक्ट में नहीं है वो आपकी पिक्चर नहीं देख पाएगा।

स्कैम्स:

WhatsApp पर कई सिक्योरिटी फीचर्स दिए गए हैं। लेकिन फिर भी यूजर्स को स्कैम्स से खुद को बचाना जरुरी हैं। WhatsApp पर कई ऐसे मैसेजेज आते हैं जो यूजर को झूठी जानकारी देते हैं। हैकर्स इन मैसेजेज को ज्यादातर यूजर के अकाउंट का डाटा चुराने के लिए भेजते हैं। ऐसे में यूजर्स को इन मैसेजेज से बचकर रहना चाहिए।

सिक्योरिटी कोड:

जब भी कोई यूजर नई चैट शुरू करता हैं। हर WhatsApp चैट का एक यूनिक सिक्योरिटी कोड होता हैं। इससे यह सुनिश्चित हो जाता हैं कि चैट और कॉल्स एंड-टू-एंड एनक्रिप्टेड हैं। यूजर्स को यह सिक्योरिटी कोड वेरिफाई कर लेना चाहिए। अगर कोड अलग निकलता हैं तो यह सुनिश्चित हो जाएगा कि किसी थर्ड पार्टी ने चैट को पढ़ा हैं।

इसे चेक करने के लिए यूजर्स को कॉन्टैक्ट प्रोफाइल पर जाकर (जिससे आप चैट कर रहे हैं) contact info पर ना होगा। इसके बाद Encryption को सेलेक्ट करना होगा। अगर कॉन्टेक्ट का सिक्योरिटी कोड बदलता हैं तो भी यूजर को इसकी जानकारी दे दी जाएगी। इसके लिए उन्हें सेटिंग्स में जाकर अकाउंट पर टैप कर सिक्योरिटी पर ना होगा।

1
Back to top button