छत्तीसगढ़

बीआरडी में पदस्थ सुरक्षा बल के जवानों को मिली चोरों व लूटेरों की करतूत की सजा

सजा के तौर पर काट दिया गया 50 से ज्यादा जवानों के वेतन

बिलासपुर:ट्रेनों व रेलवे स्टेशन परिसर में पर्स चोरी, चेन स्नेचिंग, बैग चोरी या अन्य वारदातों की शिकायत दर्ज किए जाने के बाद बिलासपुर रेल मंडल में पदस्थ रेलवे सुरक्षा बल आरपीएफ (RPF) के जवानों को चोरों व लूटेरों की करतूत की सजा दिया गया है.

सजा के अनुसार ट्रेनों में स्कॉटिंग ड्यूटी कर रहे 50 से ज्यादा जवानों के वेतन काट दिया गया है. पिछले छह महीनों में हुई वारदातों को इसके पीछे आधार किया गया है. वारदात की प्रवृत्ति के आधार पर वेतन कटौती का प्रावधान किया गया है.

बिलासपुर रेल मंडल में पदस्थ रेलवे सुरक्षा बल आरपीएफ (RPF) के एक अधिकारी ने “वायरलेस न्यूज़” को बताया कि सांकेतिक सजा के तौर पर कार्रवाई की गई है. ताकि ड्यूटी के प्रति जवान सजग रहें.

ड्यूटी के दौरान उसके कार्यक्षेत्र में हुई वारदात के आधार पर किसी का एक तो किसी का एक दिन से अधिक का वेतन काटा गया है. अधिकारी ने बताया कि जवानों को गश्त के दौरान चुस्त, दुरुस्त और चौकन्ना रखने के लिए इस तरह की कवायद की जा रही है.

इसके विरुद्ध अपील भी कर सकते हैं जवान

आरपीएफ के अधिकारी ने बताया कि रेलवे प्लेटफार्म पर या ट्रेन में जिनकी ड्यूटी है वे चौकन्ने रहें इसलिए वेतन काटने का प्रावधान किया गया है. अप्रैल 2019 से अब तक 50 से अधिक जवानों के वेतन में कटौती की गई है.

ऐसे जवानों को कार्रवाई के खिलाफ अपील करने का मौका दिया जाता है. अपील पर फिर से जांच की जाती है. यदि जांच में जवान को दोषी नहीं पाया जाता है तो कार्रवाई का आदेश वापस ले लिया जाता है.

संवेदनशील है ये इलाका

बता दें कि बिलासपुर से कटनी और बिलासपुर से झारसुगड़ा सेक्शन में बिलासपुर डिवीजन से आरपीएफ के जवान रात में ट्रेनों में स्कार्टिंग करते हैं. इन दोनों रूट में अनूपपुर से कटनी तक का सेक्शन संवेदनशील माना जाता है. इस क्षेत्र में ट्रेनों में लूट, चोरी की वारदात अधिक होती हैं. ट्रेनों में चोरी या लूट की शिकातय के बाद वहां ड्यूटी कर रहे जवानों के खिलाफ कार्रवाई की जाती है.

ये फायदा भी दिया गया

रेलवे सुरक्षा बल के अधिकारी ने बताया कि बिलासपुर मंडल में पदस्थ जवानों के ​बेहतरी के लिए भी लगातार काम किया जा रहा है. इसके तहत अलग अलग विभागों से साल 2006 से रूके टीए डीए के बिल को पास कराया जा रहा है. करीब 200 जवानों का सवा करोड़ रुपये अटका हुआ है, जिसे पास कराने की प्रक्रिया लगभग पूरी कर ली गई है. जवानों को इसका लाभ मिलेगा.

Tags
Back to top button