सरकार को चूना लगाने वाले समुंद्र सिंह को गिरफ्तार करने की उठी मांग

जनता कांग्रेस के प्रवक्ता नितिन भंसाली ने लगाया नियम- कानून ताक पर रखने का आरोप

रायपुर:छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी के शासनकाल में अलग-अलग दुकानों में शराब का अलग-अलग कीमत जारी कर सीधे तौर पर लाभ लेने वाले समुद्र सिंह को गिरफ्तार करने की मांग हो रही है.

ब्रांड की शराब बिना मापदंडों के परीक्षण के मनमाने तरीके से इंडियन मेड फारेन लिकर की श्रेणी में रख दी जाती थीं और स्थानीय स्तर पर निर्मित होने वाली शराब की बिक्री महंगे दर पर की जाती थी.

नौ साल तक शराब के समुंद्र में गोता लगाकर ठेकेदारों को अरबपति बनाने और सरकार को चूना लगाने वाले समुंद्र सिंह को गिरफ्तार करने की मांग उठी है. जनता कांग्रेस के प्रवक्ता नितिन भंसाली का आरोप है कि समुंद्र सिंह ने शराब ठेकेदारों को लाभ पहुंचाने के लिए सारे नियम- कानून ताक पर रख दिए थे.

शराब की बिक्री पर 50 से 60 तक प्रॉफिट मार्जिन यानि लाभ दिया गया जो कि अन्य राज्यों की तुलना में बेहद ज्यादा था. उल्लेखनीय है कि भाजपा के शासनकाल में शराब के मूल्य निर्धारण का कोई मापदंड नही था. एक दुकान में शराब का रेट अलग था तो दूसरी दुकान में अलग रेट. अलग-अलग दर पर बिक्री का लाभ सीधे तौर पर समुंद्र सिंह को मिलता था.

नौकरों को भी दिलवाई शराब दुकानें

भंसाली ने बताया कि वर्ष 2012 से वर्ष 2017 तक शराब दुकानों का आवंटन लॉटरी के माध्यम से होता था जिसका लाभ शराब ठेकेदारों ने उठाया. ठेकेदारों ने रामलाल, श्यामलाल, मांगीलाल जैसे नौकरों को भी दुकानें दिलवाई.

इस खेल में समुंद्र सिंह की भूमिका बेहद महत्वपूर्ण थीं. जिन नौकरों ने दुकानें हासिल की उनका टर्न ओवर करोड़ों में बताया गया जिसका एक रुपया भी आयकर विभाग को नहीं चुकाया गया. हकीकत यह थी कि जिन लोगों के नाम पर दुकानें आवंटित थीं खुद उन्हें ही यह नहीं पता था कि वे अरबपति है.

भंसाली ने कहा कि फिलहाल समुंद्र सिंह अंडर ग्राउंड हो गए हैं, लेकिन उन्हें गिरफ्तार कर उनसे कड़ी पूछताछ होनी चाहिए. भंसाली ने कहा कि समुंद्र सिंह को लगभग पांच हजार करोड़ से अधिक का गड़बड़झाला किया है. उनकी धरपकड़ से कई और चेहरे बेनकाब होंगे.

1
Back to top button