छत्तीसगढ़

शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत निजी स्कूलों में प्रवेश के लिए 18 हजार 488 बच्चों का चयन

14 जिलों के 2190 स्कूलों में दाखिले देने निकली पहली लॉटरी

रायपुर, 15 जुलाई 2020 : शिक्षा का अधिकार अधिनियम (आरटीई) के तहत निजी स्कूलों में बीपीएल परिवार के बच्चों को निःशुल्क शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए आज पहली लॉटरी निकाली गई। इस लॉटरी के माध्यम से 18 हजार 488 बच्चे स्कूलों में दाखिले के लिए चयनित हुए। दाखिले के लिए पहली लॉटरी राज्य के 14 जिलों के 2190 स्कूलों में आरटीई के तहत बच्चों को प्रवेश देने के लिए सभी विकल्पों के आधार पर निकाली गई। संचालक लोक शिक्षण संचालनालय द्वारा चयनित बच्चों को प्रवेश दिलाने हेतु उनके पालकों को एसएमएस के माध्यम से सूचना भेजी दी गई है।

लोक शिक्षण संचालनालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार पहली लॉटरी के लिए 14 जिलों के 2 हजार 190 स्कूलों के लिए आरटीई के तहत प्रवेश के लिए 26 हजार 468 सीटें थी। इन सीटों के लिए कुल 27 हजार 894 आवेदन प्राप्त हुए। प्राप्त आवेदनों में से 704 रद्द हुए और 7 हजार 115 का आबंटन नहीं हुआ। अपूर्ण स्थिति की 25 और 1562 मिलती-जुलती स्थिति के आवेदन थे।

पहली लॉटरी में

पहली लॉटरी में जिलेवार स्कूलों में बच्चों के प्रवेश की स्थिति इस प्रकार है। प्रदेश के जिला दुर्ग में 552 स्कूलों के लिए 4 हजार 350 बच्चों का चयन प्रवेश के लिए किया गया है। इसी प्रकार कोरबा जिले के 288 स्कूलों के लिए 3 हजार 911 बच्चे, बस्तर जिले के 121 स्कूलों के लिए एक हजार 566 बच्चे, कोरिया जिले के 205 स्कूलों के लिए एक हजार 461 बच्चे, धमतरी जिले के 205 स्कूलों के लिए एक हजार 384 बच्चे, कवर्धा जिले के 177 स्कूलों के लिए एक हजार 305 बच्चे,

बलरामपुर जिले के 150 स्कूलों के लिए एक हजार 247 बच्चे, बेमेतरा जिले के 161 स्कूलों के लिए एक हजार 99 बच्चे, बालोद जिले के 164 स्कूलों के लिए 994 बच्चे, कोण्डागांव जिले के 84 स्कूलों के लिए 647 बच्चे, बीजापुर जिले के 33 स्कूलों के लिए 192 बच्चे, दंतेवाड़ा जिले के 21 स्कूलों के लिए 129 बच्चे, सुकमा जिले के 15 स्कूलों के लिए 120 बच्चे और नारायणपुर जिले के 14 स्कूलों के लिए 83 बच्चे प्रवेश के लिए चयनित हुए हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button