मिशन अंत्योदय अंतर्गत जिले के 44 ग्राम पंचायतों का चयन

ग्राम पंचायतों को वर्ष 2020 तक km गरीबी मुक्त करने हेतु विभागों के अभिसरण से कराए जाएंगे कार्य

– मनोज मिश्रा

महासमुंद: राज्य शासन द्वारा मिशन अंत्योदय अंतर्गत जिले के 44 ग्राम पंचायतों का चयन किया गया है, जिसके तहत इन ग्राम पंचायतों को वर्ष 2020 तक गरीबी मुक्त करने हेतु विभागों के अभिसरण से कार्रवाई करने का निर्णय लिया गया है। इसके तहत आज यहां जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ऋतुराज रघुवंशी ने संबंधित विभागों को कार्य योजना तैयार कर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए है। बैठक में बताया गया कि सभी विभाग अपनी योजनाओं को इन चिन्हिंत ग्राम पंचायतों में प्राथमिकता के आधार पर क्रिन्याविंत करना सुनिश्चि करेंगे। जिले में मिशन अंत्योदय पंचायतों में तीन स्तरों पर प्रयास किया जाएगा।

इस संबंध में आज यहां कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने बैठक लेकर बताया कि जिले की चयनित प्रत्येक ग्राम पंचायतों में सेवाएं एवं अधोसंरचना सुनिश्चित की जानी है, जिसमें बैंक एवं एटीएम, बाहरमासी सड़कों से जुड़ाव, आंतरिक सीसी, ईंट की रोड़, यातायात के साधन की उपलब्धता, इंटरनेट कैफे अथवा कामन सर्विस सेंटर की उपलब्धता, सभी घरों में विस्तुत कनेक्शन की व्यवस्था, आवश्यकतानुसार बाजार, घरों में शुद्ध पेयजल की नलों के माध्यम से आपूर्ति, डाकघर, उप डाकघर, गंदे पानी की निकासी के लिए नाली का निर्माण एवं आंगनबाड़ी केन्द्रों का निर्माण एवं उसमें बच्चों का पंजीयन शामिल है।

इसी तरह सामाजिक विकास एवं सुरक्षा के अंतर्गत राशन कार्ड, पीडीएस, पक्का आवास, शैक्षणिक विद्यालय, व्यवसायिक शिक्षा केन्द्रों की स्थापना, स्वास्थ्य केन्द्रों की स्थापना, सेवाओं की उपलब्धता, सामुदायिक कचरा निपटारा तंत्र, सामुदायिक बायो गैस, एलपीजी का उपयोग, खुले में शौच से मुक्ति, सभी बच्चों का शत-प्रतिशत टीकाकरण, कुपोषण मुक्त ग्राम शामिल है।

उन्होंने बताया कि आर्थिक विकास एवं आजीविका में विविधता के तहत शत- प्रतिश्ज्ञत सिंचाई की उपलब्धता, ग्राम की महिलाओं, युवाओं आदि को गैर कृषि गतिविधियों से जोड़ना, पशु चिकित्सालय, सेवाओं की उपलब्धता, मृदा परीक्षण केन्द्रों की स्थापना, खाद एवं बीज केन्द्रों की स्थापना, स्व सहायता समूहों का गठन एवं उन्हें बैंक से ऋण प्रदाय करवाना, किसानों के उत्पादक समूहों का गठन एवं पंजीयन तथा कृषि मित्र एवं पशु मित्र का चयन, प्रशिक्षण देना शामिल है। इस योजना के तहत जिन 44 ग्राम पंचायतों का चयन किया गया है, उसमें बसना विकासखंड के 39 एवं बागबाहरा की पांच ग्राम पंचायतें शामिल है। इनमें बसना विकासखंड के ग्राम पंचायत जमदरहा, पुरूषोत्तमपुर,

खोगसा, बरतियाभांठा, संतपाली, सुखापाली, उड़ेला, लोहडीपुर, चिपरीकोना, पलसापाली ब, धनापाली, भंवरपुर, सरकण्डा, बिजराभाठा, अजगरखार, बिछिया स, दुलारपाली, सागरपाली, कोटेनदरहा, जगह, पौंसरा, जोगीपाली, पटियापाली, भठोरी, बंसुला, दुधीपाली, गढ़फुलझर, बड़ेडाभा, भैंसाखुरी, चंदखुरी, बाराडोली, सिंघनपुर, गौरटेक, छुईपाली, उमरिया, मेढ़ापाली, रूपापाली, कुम्हारी एवं गनेकेरा शामिल है। इसी प्रकार बागबाहरा विकासखंड के ग्राम पंचायत घोयनाबाहरा कला, उखरा, सुवरमार, कोमाखान एवं कुलिया ग्राम पंचायत को शामिल किया गया है।

Back to top button