खुद वन विभाग के एसडीओ की मिलीभगत आ रही सामने…

मुंगेली जिले के एटीआर क्षेत्र जलदा में 3 मई की आधी रात मुर्गा दारु पार्टी का मामला...

– मनीष शर्मा

मुंगेली: 3 मई की आधी रातअचानकमार टाइगर रिजर्व के कोर जोन मे एक तहसीलदार के शराब और मुर्गे की पार्टी मनाने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। भले ही अधिकारियो ने मामले की जांच करने के बाद जांच रिपोर्ट कलेक्टर को सौप दी हो लेकिन वन विभाग के कर्मचारी संघ को इस रिपोर्ट पर भरोसा नहीं है की दोषी तहसीलदार पर उचित कार्यवाही होगी।

क्योंकि घटना के 20 दिन बाद भी जिला प्रशासन अनभिज्ञता ही जाहिर कर रहा है। वन विभाग कर्मचारी संघ ने कल लोरमी एस डी एम को ज्ञापन सौपा है जिसमे पुरे मामले की जानकारी देते हुये कार्यवाही की मांग की है ।संघ आज जिले के कलेक्टर और एस पी से भी मिलकर उचित कार्यवाही की मांग करेगा।

बता दें पूरा मामला 3 मई का है जब मुंगेली जिले के एक तहसीलदार आधी रात को टाईगर रिजर्व के कोर जोन जलदा मे अनाधिकृत रूप से प्रवेश करते है और वहा ड्यूटीरत  वन कर्मचारी राज तिलक के निवास मे जबर्दस्ती मुर्गा बनाने कहते है।

वन कर्मचारी तहसीलदार को पहचानता नहीं था इसलिये उसने मना किया तथा टाईगर रिजर्व मे पार्टी मनाने से मना किया इसके बाद से ही पुरा बवाल मचा है और अभी तक प्रशासन की जांच चल रही है। चर्चा के अनुसार तहसीलदार को कोर जोन मे जाने की अनुमती टाईगर रिजर्व के एक एसडीओ ने दी थी जिसके बाद तहसीलदार जल्दा कोर जोन पहुचे थे।

Clipper28 से बात करते हुये संघ के पदाधिकारी लोकमणि त्रिपाठी ने बताया हम सिर्फ न्याय की मांग कर रहे है जो दोषी हैै ऊस पर कार्यवाही हो हम इन्हीं मांंगो को लेकर अधिकारियो तक अपनी बात रख रहे है। कुछ दिन पुर्व टाईगर रिजर्व मे सारस डोल मे कार्यरत एक कर्मचारी को सस्पेंड कर दिया गया था जिस पर आरोप लगा था की उसने शराब पी है। जबकी ये गलत था।

बहरहाल देखना ये होगा की विभाग की जांच मे तहसीलदार को रात के समय कोर जोन जाने की इजाजत देने वाले विभागीय एस डी ओ पर और वन कर्मचारी की शिकायत के बाद घटनास्थल पर पहुचकर मूकदर्शक बने रेंजर से भी क्या स्पस्टीकरण मांगा जाता है? या कोई कार्यवाही की जावेगी फिलहाल इस पूरे घटनाक्रम में शंसय की स्थिति बनी हुई है।

अचानकमार टाइगर रिजर्व में तहसीलदार एवं उनके साथियों के द्वारा जलदा में शराबखोरी, गालीगलौज के मामले को लेकर नेचर क्लब बिलासपुर के संयोजक मंसूर खान ने एटीआर के उपसंचालक को भी पत्र लिखा है जिसमे एसडीओ की मिलीभगत से तहसीलदार व उनके साथियों द्वारा शराबखोरी,

गालीगलौज के विरूद्ध तत्काल क़ानूनसंगत कार्यवाही की जाये जिस पर कोई दबाव बर्दाश्त नही किया जाएगा। खान ने शिकायत की प्रतिलिपि मुख्य वन प्राणी सरंक्षक को भी भेजी है,उन्होंने कठोर कार्यवाही ना होने पर शीघ्र ही प्रतिनिधिमंडल वनमंत्री मो. अकबर से भी शिकायत करने की बात कही।

Back to top button