राष्ट्रीय

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने स्वीकारा पीएम मोदी की यह चुनौती

प्रधानमंत्री मोदी ने पूरे देशवासियों को दी चुनौती

नई दिल्ली:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेस के जरिए बात करते हुए पूरे देशवासियों को चुनौती दी कि ‘हमें कम से कम एक शब्द को देश में बोले जाने वाली 10-12 भाषाओं में लिख कर शुरुआत करनी चाहिए.’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘इस तरह से एक व्यक्ति एक साल में 300 से ज्यादा नए शब्द सीख सकता है.’

जिसके बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने सबसे पहले पीएम मोदी की इस चुनौती को स्वीकारा है और ‘बहुवचनम’ शब्द ट्वीट किया, जिसका अर्थ मलयालम में बहुलवाद है. थरूर का ट्वीट पीएम मोदी के तुरंत बाद आया.

पीएम मोदी के शब्द चुनौती पर प्रतिक्रिया देते हुए थरूर ने श्रृंखलाबद्ध कई ट्वीट किए, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra modi) ने मनोरमा न्यूज कॉनक्लेव में अपने एक भाषण का अंत हर दिन मातृभाषा को छोड़कर एक अन्य भारतीय भाषा के शब्द सीखने का सुझाव देकर किया.

मैं हिंदी के अलावा बाकी भाषाओं में आने का स्वागत करता हूं और प्रसन्नतापूर्वक इस भाषा की चुनौती को आगे बढ़ाऊंगा.’अपनी पुरानी परंपराओं को भुला देना और फिर कोई दूसरा बताए तो उसे नए सिरे से सीखना, इस आदत को भी हमें बदलना होगा।

उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री की भाषा की चुनौती के जवाब में मैं रोजाना अंग्रेजी, हिंदी और मलयालम में एक शब्द ट्वीट करूंगा. अन्य लोग इसे दूसरी भाषाओं में कर सकते हैं. यहां पहला है, प्लुरलिज्म (अंग्रेजी), बहुलवाद (हिंदी), बहुवचनम (मलयालम).’ एक घंटे बाद थरूर ने बहुलवाद के मलयालम में दो और अर्थ सुझाए. थरूर कई मौके पर ट्विटर उपयोगकर्ताओं को शब्दकोश के इस्तेमाल के लिए प्रेरित करते हैं.

Tags
Back to top button