पार्षद सूरज बंछोर की सनसनीखेज हत्या मामला का खुलासा, आरोपी गिरफ्तार…

पुलिस महानिरीक्षक दुर्ग रेंज दुर्ग श्री ओ पी पाल व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री बद्री नारायण मीणा के सतत् मार्गदर्शन में टीम को मिली सफलता।

▪️ करीबन 02 वर्ष पूर्व पुरानी रंजीश बनी हत्या की वजह।

▪️ आरोपी द्वारा 01 वर्ष पूर्व से बना रखी थी हत्या की योजना।

▪️ आरोपियों से 02 नग देशी कट्टा एवं 04 जिन्दा कारतूस एवं मोटर सायकल बरामद।

          दिनांक : - 22.11.2021 विवरण इस प्रकार है कि दिनांक 15.11.2021 की रात हथखोज बंधवा तालाब भिलाई 03 के पास किसी अज्ञात व्यक्ति के द्वारा हथखोज क्षेत्र के पार्षद सूरज बंछोर की हत्या कर दी थी , एकादशी के दिन करीबन रात 10 बजे घटना की सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को मिली , वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री बद्री नारायण मीणा स्वयं घटना स्थल पर अति पुलिस अधीक्षक ( शहर ) श्री संजय ध्रुव , नगर पुलिस अधीक्षक ( पुरानी भिलाई ) श्री विश्वास चंद्राकर , उप पुलिस अधीक्षक ( क्राईम ) श्री नसर सिद्धीकी , थाना प्रभारी पुरानी भिलाई विनय सिंह बघेल सहित सभी आला अधिकारी घटना स्थल पर पहुंचे , पुलिस महानिरीक्षक दुर्ग रेंज दुर्ग श्री ओ पी पाल घटना स्थल पहुंचे , घटना स्थल से पुलिस महानिरीक्षक दुर्ग रेंज दुर्ग श्री ओ पी पाल एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री बी एन मीणा के द्वारा आवश्यक दिशा निर्देश देते हुए घटना कारित करने वाले अपराधियों की पतासाजी हेतु घटना स्थल पर अति . पुलिस अधीक्षक ( शहर ) श्री संजय ध्रुव के नेतृत्व में घटना स्थल पर कैम्प कर स्थानीय लोगो से पूछताछ कर एवं घटना के कारणों का जल्द से जल्द पता कर आरोपियों की गिरफ्तारी हेतु निर्देशित किया । चूंकि स्थानिय पार्षद की हत्या को सभी वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा गंभिरता से लेते हुए अलग - अलग कार्य विभाजन कर अलग - अलग टीमें गठित की गई , नगर पुलिस अधीक्षक ( पुरानी भिलाई ) श्री विश्वास चंद्राकर , उप पुलिस अधीक्षक ( क्राईम ) श्री नसर सिद्धीकी के निर्देशन में गठित टीम द्वारा घटना स्थल निरीक्षण , सीसीटीव्ही फूटेज , घटना स्थल के आस - पास स्थानीय निवासियों से पूछताछ एवं तकनिकी विश्लेषण कर सायबर टीम को आरोपियों की धर पकड़ हेतु निर्देशित कार्य आरंभ किया । गठित टीम निरीक्षक विशाल सोन एवं निरीक्षक जितेन्द्र वर्मा की टीम द्वारा घटना स्थल से लेकर आरोपियों के हर संभावित स्थानों के सीसीटीव्ही फूटेज खंगाले गये एवं उनका बारिकी से विश्लेषण किया गया , निरीक्षक बृजेश कुशवाहा एवं निरीक्षक दुर्गेश शर्मा की टीम द्वारा घटना स्थल के आसपास के निवासी एवं मृतक के परिवार जनों एवं दोस्तों व घटना स्थल पर मृतक सूरज के साथ देखे गये उनके करीबी दोस्तों का कथन लिया गया , निरीक्षक गौरव तिवारी एवं सायबर टीम द्वारा तकनीकी विश्लेषण किया गया , निरीक्षक विनय सिंह बघेल एवं टीम द्वारा घटना स्थल , थाना क्षेत्र एवं स्थानीय मुखबीरो को सक्रिय कर घटना से संबंधित छोटी से छोटी सूचना को संकलित कर अपराधियों की पतासाजी की जाने लगी । विवेचना के दौरान स्थानीय मुखबीरों से मृतक सूरज बंछोर के साथ विगत कुछ सालों से अलग - अलग लोगो से विवाद होने की जानकारी गठित टीम को प्राप्त हुई , गठित टीम द्वारा ऐसे सभी लोग जिनसे मृतक का विवाद हुआ था उनके संबंध में जानकारी प्राप्त की गई जिसमें एक महत्वपूर्ण सूचना प्राप्त हुई । विगत 02 वर्ष पूर्व संदेही दिनेश पाल उर्फ दीनू के साथ मृतक का विवाद एवं मारपीट हुई है तथा घटना के बाद से दीनू पाल अपने निवास स्थान में उपस्थित नहीं है । जिस संबंध में दीनू पाल एवं उसके करीबी दोस्तों की पतासाजी की गई जो कि घटना के बाद से फरार थे तउपरांत तकनीकी विश्लेषण के उपरांत संदेहियों के जांजगीर चांपा में छिपे होने की सूचना प्राप्त हुई , तत्काल सउनि राजेश पाण्डेय के नेतृत्व में आर . संदीप सिंह , सत्येंद्र मंढरिया , रिंकू सोनी , शहबाज खान को जांजगीर चांपा के लिए रवाना किया गया जहां से स्थानीय थाना शक्ती थाना प्रभारी रूपक शर्मा से संपर्क कर संयुक्त टीम द्वारा 03 संदेहियों को गिरफ्तार किया गया एवं 01 अन्य संदेही को हथखोज क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया । गठित टीम के पूछताछ के दौरान पूछताछ के दौरान जानकारी प्राप्त हुई कि मृतक सूरज का दीनू पाल से कई कारणों से विवाद था । डेढ़ वर्ष पूर्व मनोज चौधरी एवं आशिक विश्वकर्मा ने विवाद के कारण दीनू पाल को मारपीट कर घायल कर दिया था । इस घटना के बाद से दीनू पाल से मनोज एवं आशिक को सबक सिखाना चाहता था । सूरज , मनोज व आशिक को सर्पोट करता था दीनू पाल कुछ माह पूर्व अवैध कटटा रखने के आरोपी में गिरफ्तार हो चुका था । आरोपी के अनुसार कटटा सूरज बंछोर का ही था जिसे मृतक ने दीनू पाल को रखने के लिए दिया था । जिसकी वजह से दीनू पाल को जेल जाना पड़ा था । मृतक सूरज द्वारा इस प्रकरण में दीनू पाल की कोई मदद नहीं किया । इसके अलावा हथखोज में पान - टेला लगाने पर दीनू पाल को सूरज ने प्रताड़ित किया था । तब से संदेही दीनू पाल मृतक सूरज बंछोर की हत्या करने के फिराक में था । इस घटना को कारित करने के लिये अपने साथी पुरुषोत्तम उर्फ बुड्डा , दीपक उर्फ भूरवा को घटना में शामिल किया , हत्या के उद्देश्य से खुर्सीपार निवासी मोहन को कट्टा उपलब्ध कराने के लिये संपर्क किया , कुछ समय पर पूर्व मोहन के द्वारा 02 कट्टा उपलब्ध कराया गया था , हत्या के उद्देश्य से दीनू , भूरू सारंगगढ़ से भिलाई आये दिनांक 15.11.2021 को मृतक सूरज बंछोर को तालाब पार के पास अकेला पा कर धाराधार हथियार से अपने साथी लोकेश साहू एवं पुरूषोत्तम के साथ मिलकर हत्या कर दी । मामले में चारों आरोपियों से को गिरफ्तार कर आरोपी से 02 नग देशी कट्टा एवं 04 जिन्दा कारतूस एवं फरार होने के लिए चोरी की हुई मोटर सायकल , घटना में प्रयुक्त मैस्ट्रो , धारधार हथियार जप्त कर माननीय न्यायालय में पेश किया जा रहा है । नोट : आरोपी दीनू उर्फ दिनेश पाल पूर्व में शराब तस्करी , आर्म्स एक्ट एवं मारपीट के मामलो में निरूद्ध रहा है । पुरुषोत्तम उर्फ सोना हत्या के प्रयास के मामले में जेल जा चुका है । 

आरोपी 1. दीनू उर्फ दिनेश पाल पिता स्व . गजेन्द्र पाल उम्र 41 वर्ष साकिन खुर्सीपार बालाजी नगर
2. उत्तम सोना पिता पुरूषोत्तम सोना उम्र 35 वर्ष साकिन खुर्सीपार उड़िया बालाजी नगर बस्ती मुबारक किराना स्टोर के पीछे
3. दीपक उर्फ भूरू साहू पिता स्व . बनमाली साहू उम्र 32 वर्ष साकिन पुरानी बस्ती छावनी सरकारी कुंआ के पास
4. लोकेश साहू पिता विश्राम साहू उम्र 20 वर्ष पता गांधी चौक हथखोज भिलाई
5. मोहन
जप्ती 1. 02 नग देशी कट्टा एवं 04 जिन्दा कारतूस 2. हत्या में प्रयुक्त धारधार कटार एवं गुप्त 3. अपराध में प्रयुक्त 02 मोटर सायकल।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button