मध्यप्रदेश

फिर दहला सिवनी शहर, दोपहर में हिली धरती, दहशत में बाहर निकले लोग

सिवनी में तीव्र झटके महसूस होने की जानकारी मिली है।

Earthquake in Seoni सिवनी: 27 अक्टूबर की सुबह 4.10 बजे से भूकंप के तगड़े झटके को शहरवासी भूल नहीं पाए हैं कि शनिवार दोपहर 12.48 बजे एक बार फिर धरती हिलने से सिवनी शहर दहल गया है। हालांकि दोपहर में महसूस हुआ कंपन (भूकंप) का झटके की तीव्रता कितनी थी, इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। जबलपुर भू-सर्वेक्षण विभाग के अधिकारियों का कहना है कि भूकंपीय मीटर का आंकलन के बाद इस बारे में कुछ कहा जा सकेगा। सिवनी में तीव्र झटके महसूस होने की जानकारी मिली है।

ऐसा लगा पैरो तले खिसक रही जमीन – शनिवार दोपहर आया भूकंप का झटका इतना जबरदस्त था कि घरों के पलंग, कुर्सी-टेबिल, सोफा, खिड़की-दरवाजे सहित पूरा भवन कांप गया। 5 से 10 सेकंड के लिए लोगों को लगा जैसे पैरो तले से जमीन खिसक रही है। घर, दुकान व सरकारी दफ्तर में मौजूद लोग बिल्डिंग से बाहर आ गए।

इंटरनेट मीडिया पर भूकंप की घटनाओं की एक के बाद एक प्रतिक्रिया आना शुरू हो गई। बुधवार 29 अक्टूबर को जबलपुर सर्वेक्षण विभाग के दल ने शहर का दौरा कर लोगों को सचेत रहने की सलाह दी थी। भू-विज्ञानी एमएस पठान ने बताया था कि सिवनी जिला संवेदनशील (एक्टिव जोन) में है। सोन नदी व नर्मदा बेसिन में होने के कारण जिले में भूकंप के हल्के झटके आने की संभावना बनी हुई है।

लोगों का दावा घरों में आई दरारें

दोपहर करीब 12:48 में आया झटका इतना जोरदार था कि जमीनी सतह से लेकर तीन मंजिला इमारतों में रहने वाले लोगों खौफ में आ गए। लोगों का दावा है कि भूकंप के झटके से घर की दीवार में गहरी दरारें आ गई हैं। मुख्यालय के हर हिस्से में भूकंप के झटके महसूस किए गए। भैरोगंज, शुक्रवारी, गंजवार्ड, मरझोर, गांधी वार्ड, बारापत्थर, बरघाट रोड, कटंगी रोड, डूंडासिवनी सहित शहर के अन्य इलाकों में बार-बार भूकंप के झटके आने से लोगों में दहशत बनी हुई है। सरकारी काम काज पर भी इसका असर पड़ा, दफ्तर में काम करने वाले अधिकारी कर्मचारी बाहर निकल गए और भूकंप की चर्चा तेज हो गई। फेसबुक, ट्विटर इंटरनेट मीडिया पर लोगों ने झटकों की जानकारी दी।

आया था 3.3 तीव्रता का भूकंप

मंगलवार 27 अक्टूबर अल सुबह 4.10 बजे रिक्टर पर 3.3 तीव्रता का भूकंप दर्ज किया गया था। सिवनी जिले के 21.92 उत्तरी अक्षांश 79.50 पूर्वी देशांतर के निकट भूकंप का केंद्र (एपी सेंटर) 15 किलोमीटर गहराई में स्थित था।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button