ऑस्ट्रेलियाई अखबार में छापे गए सेरेना विलियम्स के विवादास्पद कार्टून पर आया फैसला

एक ऑस्ट्रेलियाई कार्टूनिस्ट ने सेरेना का कार्टून बनाया था जिसके बाद उन्हें आलोचना का सामना करना पड़ा।

अमेरिकी महिला टेनिस खिलाड़ी सेरेना विलियम्स पर एक ऑस्ट्रेलियाई अखबार द्वारा छापे गए विवादास्पद कार्टून ने मीडिया मानकों का उल्लंघन नहीं किया। देश की मीडिया वॉचडॉग ने को इस मुद्दे पर अपना फैसला सुनाया।

एक ऑस्ट्रेलियाई कार्टूनिस्ट ने सेरेना का कार्टून बनाया था जिसके बाद उन्हें आलोचना का सामना करना पड़ा।

मार्क नाइट का यह कार्टून मेलबर्न के एक समाचार पत्र में सितंबर में प्रकाशित हुआ था जिसमें सेरेना को अमेरिकी ओपन में अपने टूटे हुए रैकेट पर कूदते हुए दिखाया गया था।

हैरी पोटर की लेखिका जेके रोलिंग ने इस कार्टून को ‘नस्ली और लिंगभेद’ से भरा करार दिया था।

ऑस्ट्रेलियन प्रेस काउंसिल को शिकायतें मिली थीं कि यह कार्टून एक महिला का अपमानजनक और सेक्सिस्ट प्रतिनिधित्व दर्शाता है।

इस शिकायत में कहा गया है कि यह सोचने वाली बात है कि कार्टून में सेरेना के होठों को बड़ा, चौड़ी चपटी लंबी नाक और एक जंगली एफ्रो स्टाइल वाली हेयर स्टाइल को दिखाया गया।

हालांकि, यह स्वीकार भी किया गया कि अखबार का इरादा सिर्फ उनके व्यवहार को बचकाना रूप में चित्रित करना है, जबकि उन्हें कार्टून में ऊपर और नीचे कूदते हुए दिखाया गया है।

इस अखबार ने स्वीकार किया कि सेरेना को एक बंदर के रूप में चित्रित नहीं करना है, यह एक गैर-जातिवादी कैरिकैचर है जो अधिकांश ऑस्ट्रेलियाई पाठकों के लिए परिचित हैं।

लेकिन मामले की सुनवाई में मीडिया वॉचडॉग ने माना कि इसमें मीडिया मानकों का उल्लंघन नहीं किया गया है।

1
Back to top button