सेक्स CD कांड में बघेल के खिलाफ केस दर्ज

छत्तीसगढ़ कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने बीजेपी पर पलटवार किया है. बघेल ने कहा कि बीजेपी ने नैतिकता को ताक पर रख दिया है. बेशर्मी से राजेश मूणत को बचा रही है और सवाल उठाने वालों के खिलाफ एफआईआर कराया जा रहा है.

बता दें कि ये वही राजेश मूणत है कि जिनकी सेक्स सीडी रखने के आरोप में वरिष्ठ पत्रकार विनोद वर्मा को छत्तीसगढ़ पुलिस ने ट्रांजिट रिमांड पर लिया है. इससे पहले शनिवार की सुबह आईटी एक्ट के तहत भूपेश बघेल और विनोद वर्मा के खिलाफ रायपुर में एफआईआर दर्ज कराई गई है.

मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए बघेल ने कहा कि बीजेपी खुद पर उठे सवालों का जवाब नहीं देती है. बीजेपी सवालों उठाने वालों पर एफआईआर कराती है.

इससे पहले छत्तीसगढ़ के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) प्रदीप गुप्ता और पुलिस अधीक्षक (एसपी) संजीव शुक्ला ने शुक्रवार को कहा कि उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में गिरफ्तार किए गए पत्रकार विनोद वर्मा पर दूसरे के मोबाइल पर रंगदारी वसूलने का आरोप है. आईजी गुप्ता ने कहा कि विनोद वर्मा ने रंगदारी वसूलने के लिए पंडरी थाना क्षेत्र निवासी एक व्यक्ति के मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया.

उन्होंने कहा कि रायपुर की स्टेट कॉलोनी निवासी प्रकाश बजाज ने पुलिस को बताया था कि एक अज्ञात व्यक्ति उनके घर के फोन नंबर पर कुछ दिन पहले धमकी देकर रुपये मांग रहा था. इस संबंध में बजाज ने 26 अक्टूबर को थाना पंडरी में प्रथम सूचना दी. उन्होंने कहा कि फोन पर कहा गया, “मेरे पास तुम्हारे आकाओं का अश्लील वीडियो है, जिसका सीडी बनाकर मैं बंटवा दूंगा. अगर तुम और तुम्हारे आका चाहते हो कि मैं ऐसा न करूं, तो मुझसे मिलो और मेरे बताए मुताबिक रुपये मुझे दे दो.”

बजाज ने पुलिस को बताया कि पहले तो उन्होंने इसे गंभीरता से नहीं लिया. इसलिए रिपोर्ट नहीं की थी, लेकिन 26 अक्टूबर की दोपहर में फिर फोन पर धमकी दी गई. उस व्यक्ति ने कहा, “तुम्हें मेरी बात समझ में नहीं आ रही है, इस समय लाजपतनगर मार्केट में सुपरटोन डिजिटल शॉप में तुम्हारे आकाओं के अश्लील वीडियो की सीडी बन रही है. कल दिल्ली और रायपुर में सीडी बंटेगी और तुम्हारे आकाओं की इज्जत मिट्टी में मिल जाएगी. अगर आप अभी भी रोकना चाहते हो, तो मुझसे मिल लो और मुझे मेरे बताए अनुसार पैसे दे दो.”

आईजी ने कहा कि चेन स्नैचिंग के मामले में जांच के लिए टीम पहले से ही दिल्ली में मौजूद थी. इसी टीम को इस मामले की जांच करने के लिए कहा गया. दिल्ली में मौजूद टीम मामले की जांच करते हुए पत्रकार विनोद वर्मा तक पहुंची और उन्हें हिरासत में लिया गया.

‘500 सीडी, लैपटॉप, पेनड्राइव और नकदी जब्त’

उन्होंने बताया कि गाजियाबाद पुलिस की मदद से 500 सीडी, लैपटॉप, पेनड्राइव और नकदी जब्त की गई. बताया गया कि सीडी राइट करने वाले दुकान का पुलिस को पता चला. दुकानदार के पास से मिले मोबाइल नंबर और पते के आधार पर पुलिस की टीम गाजियाबाद के इंदिरापुरम् पहुंची, फिर विनोद वर्मा की गिरफ्तारी हुई.

Back to top button