शदाणी संत सतगुरु साईं राजाराम साहेब जी 59वें वर्षी महोत्सव का भव्य शुभारंभ

रायपुर: सतगुरु संत राजाराम साहिब जी का जन्म कार्तिक एकादशी नवंबर सन 1882 मैं हुआ था पूज्य संत जी के चरणों में पद्म चिन्ह का निशान था उनकी वाणी ओजस्वी एवं अमृत में आई थी उन्होंने लोक कल्याण वह मानवता की सेवा के अन्य कार्य किए जिनके पद चिन्हों पर दरबार आज भी चलती है.

यह शदाणी श्रद्धालुओं का अंतरराष्ट्रीय महोत्सव है जिस में सम्मिलित होने के लिए पूरे विश्व से श्रद्धालुओं का आगमन पूज्य शदाणी दरबार तीर्थ रायपुर छत्तीसगढ़ की धरा पर होता है प्रथम सद्गुरु शिव अवतारी स्वामी शदाराम साहिब जी 1708 से 1793 द्वारा विश्व कल्याण के लिए अपना जीवन समर्पित किया वर्तमान में नवम पीठाधीश संत डॉक्टर युधिष्ठिर लालजी शदाणी दरबार तीर्थ रायपुर में विराजमान हैं.

पूजा दरबार के सचिव श्री सत्यव्रत शदाणी जी ने बताया कि शिव अवतारी सतगुरु स्वामी सदाराम साहिब के सातवें अवतार परम वंदनीय स्वामी राजाराम साहेब जी का 59 वा वर्षी महोत्सव आज दिनांक 27 मार्च हवन एवं ध्वजारोहण के साथ भव्य शुभारंभ हुआ जनकल्याणअर्थ पांच दिवसीय वयोवस्था चिरंजीवी शांति महायज्ञ जोकि प्रतिदिन अनवरत प्रातः से संध्या तक जारी रहेगा का शुभारंभ 26 मार्च मंगलवार को शदाणी दरबार के पीठाधीश डॉक्टर संत श्री युधिष्ठिर लाल जी के मुख्य यजमानी में एवं वेद संरक्षण समिति छत्तीसगढ़ के अध्यक्ष आचार्य रामचंद्र शास्त्रीगल जी की पंडिताई में प्रारंभ हुआ.

ध्वजारोहण हरिद्वार से पधारे महामंडलेश्वर श्री अर्जुन पुरी महाराज की अगवानी में एवं विभिन्न संतो महामंडलेश्वर ओं की आशीर्वादक उपस्थिति में करतल ध्वनि के मध्य संपन्न हुआ रात्रि 8:00 बजे से गुरु ग्रंथ साहिब का अखंड पाठ एवं रामायण का पाठ भी आरंभ हुआ भारतवर्ष के विभिन्न प्रांतों से आए महामंडलेश्वर व दक्षिण काली पीठ के पीठाधीश स्वामी कैलाशानंद एवं संतों के प्रवचन तथा जनसामान्य के लिए.

भारतवर्ष के विभिन्न प्रांतों से आए डॉक्टरों विशेष रूप से हैदराबाद के यशोदा हॉस्पिटल के डॉक्टर के माध्यम से मेडिकल कैंप द्वारा निशुल्क इलाज डॉक्टर भीष्म शदाणी के मार्गदर्शन में 27 से 30 मार्च तक लगातार उपलब्ध कराया जा रहा है 28 मार्च दिन गुरुवार को मुंबई के सांस्कृतिक कलाकारों द्वारा लाइव स्टेज प्रोग्राम वाणी गुरु की वंदन भक्तों का कार्यक्रम के अंतर्गत भव्य आयोजन किया जाएगा.

Back to top button