बेटी की सलामी के साथ हुई शहीद मोहन लाल की अंतिम यात्रा की शुरुआत

शहीद सीआरपीएफ जवान मोहन लाल उत्तराखंड की राजधानी देहरादून का था

देहरादून: जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में अवन्तीपुरा के गोरीपुरा इलाके में उस वक्त गुरुवार को हमला हुआ, जब सीआरपीएफ का काफिला गुजर रहा था. सीआरपीएफ काफिले पर हुए हमले में करीब 350 किलो IED का इस्तेमाल हुआ.

इस हमले में उत्तराखंड की राजधानी देहरादून का शहीद सीआरपीएफ जवान मोहन लाल भी शामिल था. अपने पिता की शहादत पर उनकी बेटी ने उसने रोने के बजाय शहादत को सलामी देना मुनासिब समझा. बेटी की सलामी के साथ मोहन लाल की अंतिम यात्रा की शुरुआत हुई.

बेटी की हिम्मत देखने के बाद वहां मौजूद लोगों की आंखों से आंसू फूट पड़े. बदला लेने के नारों से पूरा इलाका गूंज उठा. वहीं सीआरपीएफ में एएसआई रहे मोहन लाल के पार्थिव शरीर को नमन करने के लिए बीजेपी, कांग्रेस के नेताओं के अलावा सूबे के बड़े अधिकारी भी पहुंचे. उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी मोहन लाल की शहादत को सलाम किया.

Back to top button