शहीद की पत्नी बनी लेफ्टिनेंट, कहा- पति का सपना हुआ पूरा

-2015 में देश की सेवा करते हुए शहीद हो गए थे राइफलमैन रविंदर संब्याल

जम्मू:

आपने अक्सर उन शहीदों की कथाएं सुनी और देखी होंगी, जिन्होंने देश के लिए हंसते हुए अपनी जानें कुर्बान कर दी। इनमें राइफलमैन रविंदर संब्याल का भी नाम शामिल है जो 2015 में देश की सेवा करते हुए शहीद हो गए थे। रविंदर की पत्नी नीरू संब्याल ने अपने पति का अधूरा सपना पूरा करते हुए सफलतापूर्वक अपना सैन्य प्रशिक्षण पूरा कर लिया और वह अब भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट के रूप में शामिल हो गई हैं।

जम्मू-कश्मीर के सांबा की रहने वाली नीरू और रविंदर की शादी अप्रैल 2013 में हुई थी और दोनों की एक दो वर्षीय बेटी भी है। जब उनकी बेटी हुई तो रविंदर इस दुनिया में नहीं थे। नीरू ने तभी ठान लिया था कि वह पति के सपनों को जरूर पूरा करेगी और इसलिए उन्होंने सेना में शामिल होने का निर्णय लिया। जवान की पत्नी ने चेन्नई के आॅफिसर ट्रेनिंग अकेडमी के नए बैच में कई सैन्य अधिकारियों के साथ प्रशिक्षण लिया।

नीरू ने बताया कि पति का रेजिमेंट उन्हें परिवार की तरह हमेशा मदद करता रहा। उन्होंने कहा कि अगर मुझे कुछ हो जाता है तो मैं जानती हूं कि वे लोग मेरी बेटी के लिए मौजूद रहेंगे।

नीरू ने बताया कि ट्रेनिंग के दौरान उन्होंने बेटी को मिस किया और शुरुआती एक-दो महीने काफी कठिन रहे लेकिन वे चाहती हैं कि उनकी बेटी मजबूत बने और अपने सैनिक माता-पिता पर गर्व करे। उन्होंने एक ही प्रयास में एसएसबी क्लियर कर लिया और एकमात्र वैकेंसी पर अपना स्थान पक्का कर लिया।

वहीं नीरू के पिता दर्शन सिंह अपनी बेटी की सफलता से बेहद खुश हैं। उन्होंने कहा कि उन्हे नीरू की उपलब्धि पर गर्व है। मेरी बेटी की दिली तमन्ना थी कि वो आर्मी ज्वॉइन करे, हालांकि यह थोड़ा कठिन निर्णय था लेकिन हमने उसके सपने को पूरा करने का फैसला लिया। नीरू के ससुराल वालों को भी उसकी सफलता का पूरा श्रेय जाता है।

Back to top button