मानवता शर्मसार! साइकिल पर पत्नी का शव लेकर घूमता रहा बुजुर्ग, कोरोना से गांव वालों ने नहीं करने दिया अंतिम संस्कार..

तस्वीरें वायरल

जौनपुर। यूपी के जौनपुर से एक ऐसा मामला सामने आया है जिससे फिर एक बाद मानवता शर्मसार हो गई है, मामला जौनपुर जिले का है, जहां पर कोरोना से मृत बुजुर्ग महिला का गांव वालों ने गांव में अंतिम संस्कार तक नहीं करने दिया। इसके बाद रोता बिलखता बुजुर्ग पत्नी के शव को साइकिल पर लेकर घूमता रहा। मामले की जानकारी पुलिस को हुई तो आनन फानन में पुलिस ने मदद की और महिला का अंतिम संस्‍कार हो सका।

इस दौरान पत्नी के अंतिम संस्कार के लिए बुजुर्ग पति को साइकिल से शव गोमती नदी के किनारे स्थानीय श्मशान घाट ले जाना पड़ा। पूरा मामला मड़ियाहूं कोतवाली के अम्बरपुर गांव का है। जहां पर गांव निवासी तिलकधारी सिंह की पत्नी राजकुमारी देवी (55 वर्ष) की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई थी। मौत होने की जानकारी होने पर गांव में कोई शव को कंधा देने वाला नहीं मिला और कोरोना संक्रमण के भय की वजह से बुजुर्ग तिलकधारी गांव वालों की बेरुखी और दुत्‍कार से तंग आकर शव को किसी तरह साइकिल पर रखकर अंतिम संस्‍कार के लिए निकला और देखते ही देखते यह मामला इंटरनेट मीडिया में वायरल हो गया।

पीड़‍ित की माने तो पत्‍नी राजकुमारी को कुछ दिन पहले बुखार आया और देखते ही देखने उसने सोमवार को कोरोना संक्रमण की वजह से दम तोड़ दिया। महिला की मौत होने की वजह से कोरोना संक्रमण जानकर कोई भी मदद को नहीं आया। परिवार गांव के लोगों ने साथ छोड़ दिया तो हताश होकर तिलकधारी सिंह ने अपनी साइकिल उठाई और शव को लादकर अंतिम संस्‍कार करने का प्रयास किया लेकिन बुजुर्ग होने की वजह से जल्‍द ही थक कर बैठ गया और किस्‍मत पर विलाप करने लगा। इस दौरान गांव में किसी ने घटना की फोटो खींच कर इंटरनेट मीडिया पर वायरल कर दिया। मामले की जानकारी होने के बाद पुलिस भी सक्रिय हुई और अपने प्रयास से शव का अंतिम संस्‍कार कराया।

बता दें कि यूपी में लगातार कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है, बीते 24 घंटे में वहां 35 हजार से अधिक कोरोना के नए केस सामने आए हैं, वहीं इस हालात को देखते हुए यूपी राज्य सरकार ने वीकेंड लॉकडाउन को बढ़ाकर 3 दिनों का कर दिया है।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button