चर्चा में शापूरजी पलोनजी समूह, टाटा ग्रुप के साथ 70 साल पुराना रिश्ता होगा खत्म

भारत के सबसे पुराने औद्योगिक घराने शापूरजी पलोनजी समूह (एसपी समूह) और टाटा समूह की 70 साल पुरानी दोस्ती खत्म होती नजर आ रही है। एसपी समूह ने हाल ही में टाटा समूह से बाहर निकलने का निर्णय लिया है।

नई दिल्ली: भारत के सबसे पुराने औद्योगिक घराने शापूरजी पलोनजी समूह (एसपी समूह) और टाटा समूह की 70 साल पुरानी दोस्ती खत्म होती नजर आ रही है। एसपी समूह ने हाल ही में टाटा समूह से बाहर निकलने का निर्णय लिया है।

मालूम हो कि एसपी की कंपनियों पर 30,000 करोड़ रुपये का कर्ज है, जिसको चुकाने के लिए कंपनी टाटा संस में अपनी हिस्सेदारी बेचना चाहती है। शापूरजी पलोनजी समूह कोरोना वायरस महामारी को लेकर पेश समाधान योजना के तहत 10,900 करोड़ रुपये के अपने ऋण का पुनर्गठन करेगा। इस संदर्भ में एक अधिकारी ने कहा कि केवी कामथ पैनल की रिपोर्ट को स्वीकार करने के बाद भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा अनुमोदित एकमुश्त ऋण पुनर्गठन योजना के तहत राहत मांगी जा रही है।

इस सुविधा में वित्तीय रूप से तनावग्रस्त कंपनियों को दो साल के लिए अपने ऋण को टालने की अनुमति है। अधिकारी ने कहा कि, ‘150 साल पुरानी शापूरजी पलोनजी ग्रुप की होल्डिंग कंपनी शापूरजी पलोनजी कंस्ट्रक्शन रिजर्व बैंक के द्वारा अनुमोदित कोविड-19 समाधान ढांचे के तहत एकमुश्त ऋण पुनर्गठन के माध्यम से 10,900 करोड़ रुपये के अपने ऋण का पुनर्गठन करना चाहती है।’

यह घटनाक्रम ऐसे समय सामने आया है जब टाटा ने पांच सितंबर को उच्चतम न्यायालय पहुंचकर एसपी समूह की टाटा संस में 18.37 फीसदी हिस्सेदारी के एक हिस्से के बदले में कर्ज जुटाने की पहल को रोकने की याचिका दायर की।

ग्रुप की 70 देशों में 18 कंपनियां
शापूरजी पलोनजी ग्रुप की दुनियाभर में 18 कंपनियां हैं। यह कुल छह क्षेत्रों इंजीनियर सेगमेंट और कंस्ट्रक्शन, इंफ्रास्ट्रक्चर, रीयल एस्टेट, वाटर, एनर्जी और फाइनेंशियल सर्विसेज में काम करती है। ग्रुप की 70 देशों में 70,000 से ज्यादा कर्मचारी हैं।

बनाई थी RBI की बिल्डिंग
पालोनजी के पास आयरिश नागरिकता है, लेकिन वह अपना ज्यादातर समय भारत में गुजारते हैं। साइरस भी आयरिश नागरिक हैं। इस कंपनी ने ही आरबीआई की बिल्डिंग, टाटा समूह की इमारतें, ताज महल टावर, बैंक ऑफ इंडिया और अन्य कई बिल्डिंग्ल बनाईं।

1865 में हुई थी कंपनी की शुरुआत
एसपीजी की नींव साल 1865 में पालोनजी मिस्त्री ने रखी थी। तब लिटिलवुड पालोनजी एंड कंपनी बनी थी, लेकिन बाद में पालोनजी ने साइरस के दादा को काम की जिम्मेदारी दी थी। फिर शापूरजी ने पार्टनरशिप तोड़कर शापूरजी पालोनजी कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी बनाई थी।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button