बजट से पहले फिसला सेंसेक्स, 124 अंक गिर 36,000 के नीचे आया

बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक शुरुआती कारोबार में 124.28 अंक यानी 0.34 प्रतिशत गिरकर 35,909.45 अंक पर आ गया

बजट से पहले फिसला सेंसेक्स, 124 अंक गिर 36,000 के नीचे आया

बंबई शेयर बाजार सेंसेक्स आज शुरुआती कारोबार में 124 अंक गिरकर 36,000 के नीचे आ गया। विदेशी निवेशकों की ओर से मुद्रा निकासी और बजट से पहले निवेशकों के सौदे घटाने से बाजार में गिरावट का रुख रहा। वहीं शुरुआती कारोबार में रुपया भी डॉलर के मुकाबले 8 पैसे गिर गया।
[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक शुरुआती कारोबार में 124.28 अंक यानी 0.34 प्रतिशत गिरकर 35,909.45 अंक पर आ गया। इस दौरान टिकाऊ उपभोक्ता वस्तुओं, पूंजीगत माल, आईटी और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र की कंपनियों के शेयरों में गिरावट रही। वहीं, कल के कारोबारी दिन में सेंसेक्स 249.52 अंक गिरा था। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी शुरुआती दौर में 38.95 अंक यानी 0.35 प्रतिशत की गिरावट के साथ 11,010.70 अंक पर खुला।

कारोबारियों के मुताबिक, कल पेश होने वाले बजट से पहले निवेशकों के सौदे घटाने से गिरावट की धारणा को बल मिला। एशियाई बाजारों से कमजोर रुख ने भी इसे बढ़ाया।

एशियाई बाजारों में हांग कांग का हेंग सेंग सूचकांक 0.03 प्रतिशत नीचे रहा। जापान का निक्केई सूचकांक भी शुरुआती कारोबार में 0.11 प्रतिशत गिर गया जबकि शंघाई कंपोजिट सूचकांक 0.10 प्रतिशत नीचे रहा। अमेरिका का डाउ जोंस शेयर सूचकांक कल कारोबार की समाप्ति पर 1.37 प्रतिशत नीचे रहा।

रुपया गिरा
विदेशी मुद्रा निकासी बढ़ने और डॉलर में मांग आने से आज शुरुआती कारोबार में डॉलर के मुकाबले रुपया 8 पैसे गिरकर 63.68 रुपये प्रति डॉलर पर रहा। डीलरों के मुताबिक, अमेरिकी फेडरल रिजर्व की दो-दिवसीय बैठक को लेकर विदेशी बाजारों में डॉलर के कमजोर रहने से गिरावट को सीमित करने में मदद मिली।

कल के कारोबारी दिन में डॉलर के मुकाबले रुपया 63.60 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था। विदेशी निवेशकों ने कल शेयर बाजार से 105.56 करोड़ रुपये की निकासी की। इस बीच, बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स आज शुरुआती कारोबार में 124.28 अंक यानी 0.34 प्रतिशत गिरकर 35,909.45 अंक पर खुला। बजट से पहले निवेशकों के सर्तकता का रुख अपनाने से गिरावट देखी गयी।

1
Back to top button