मदद लेने बिना इजाजत UN पहुंच गए शशि थरूर, खुद को बताया प्रदेश का दूत

-राज्‍य सरकार ने किया किनारा

नई दिल्लीः

कांग्रेस के दिग्गज नेता और केरल से सासंद शशि थरूर अपने एक ट्वीट की वजह से विवादों में आ गए हैं। दरअसल उन्होंने ट्वीट में लिखा केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए वह संयुक्त राष्ट्र पहुंचे है और इसके लिए लगातार राज्य सरकार के संपर्क में हैं।

ट्वीट में उन्होंने केरल के मुख्यमंत्री और सीएमओ केरल को भी टैग किया है। हालांकि मामले में विवाद तब बढ़ गया जब केरल सरकार ने उनके दावों को ही खारिच कर दिया है। साथ ही कहा कि वो राज्य सरकार के दूत नहीं हैं। सीएमओ केरल ने कहा कि उन्होंने UN में अपना कोई प्रतिनिधि नहीं भेजा और ना ही थरूर उनके दूत हैं।

दूसरी तरफ कांग्रेस सांसद पर अब भाजपा ने भी निशाना साधा है। पार्टी ने थरूर पर गंभीर नहीं होने के आरोप लगाए हैं। हालांकि थरूर के नजदीकी सूत्रों का कहना है कि उनका निर्वाचन क्षेत्र बाढ़ की चपेट नहीं आया है। इसके अलावा मामले में निर्णय लेने का अधिकार भी उनके पास नहीं है।

इसलिए उन्होंने अपने पिछले संबंधों का इस्तेमाल करते हुए संयुक्त राष्ट्र से मदद की मांग की है। बता दें कि मामले में विवाद और भी बढ़ सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जर्मनी और यूके में एनआरआई को संबोधित करने वाले हैं। सूत्रों का कहना है कि शशि शरूर वहां राहुल गांधी के साथ जा सकते हैं।

वहीं कांग्रेस ने शशि थरूर का बचाव किया है। पार्टी ने कहा कि वह जिम्मेदार नागरिक हैं और वह संयुक्त राष्ट्र से मदद लेने के लिए अपने पिछले संबंध का उपयोग कर रहे हैं, इसमें कुछ गलत नहीं है।

Back to top button