लालू से मिलने रिम्स पहुंचे शत्रुघ्न सिन्हा

बीजेपी के वरिष्ठ नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने लालू प्रसाद यादव से मिलने के बाद उनकी सेहत को लेकर मीडिया से बात की. इस दौरान उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि यह कोई राजनीतिक मुलाकात नहीं थी.

बीजेपी के वरिष्ठ नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने लालू प्रसाद यादव से मिलने के बाद उनकी सेहत को लेकर मीडिया से बात की. इस दौरान उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि यह कोई राजनीतिक मुलाकात नहीं थी. उन्होंने कहा, “हम लोग परिवार जैसे हैं और उनका हालचाल पूछने के लिए लालू से मिलने आए हुए थे.” आपको बता दें कि इन नेताओं की ओर से लालू से मुलाकात की इजाजत मांगने के लिए रांची जेल के अधीक्षक को भेजी गई अर्जी जी मीडिया के हाथ लगी है.

बीजेपी और खासकर मोदी सरकार की नीतियों का लगातार विरोध करने वाले बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा के बारे में ताजा जानकारी सामने आई है कि वे समाजवादी पार्टी के कुछ नेताओं और पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुबोध कांत सहाय (कांग्रेस) के साथ आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव से मुलाकात की. इस हाई प्रोफाइल राजनीतिक मुलाकात के लिए BJP के रूठे हुए सांसद शत्रुघ्न सिन्हा रांची पहुंचे थे.

जिसमें शत्रुघ्न सिन्हा के साथ-साथ समाजवादी पार्टी के पूर्व सांसद किरणमय नंदा और समाजवादी युवजन सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष विकास यादव का नाम दिया गया था.
जानकारी के मुताबिक मुलाकात की इस अर्जी पर अधीक्षक की मंजूरी दे दी गई थी. अक्षीक्षक ने अर्जी पर टीप लिखा है कि ‘इन्हें RIMS में इलाजरत लालू प्रसाद जी से मुलाकात की स्वीकृति दी जाती है.’ इस अर्जी पर जो तारीख डली हुई है वह शनिवार की ही है.

जिसके बाद 24 मार्च को लालू यादव से किरणमय नंदा और शत्रुघ्न सिन्हा ने मुलाकात की. यह मुलाकात इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि यह खबर ठीक उस वक्त सामने आई है जब लालू को चारा घोटाले के दुमका कोषागार से जुड़े चौथे मामले में रांची की विशेष सीबीआई अदालत द्वारा अलग-अलग धाराओं के तहत 7-7 साल की दो सजा सुनाई गई है और 30-30 लाख का जुर्माना भी लगाया गया है.

बदलती राजनीतिक गतिविधियों में यह मुलाकात खास हो सकती है क्योंकि धीरे-धीरे कर विपक्षी पार्टियां मोदी सरकार के खिलाफ एकजुट होने लगी हैं. एक ओर जहां कांग्रेस सबको एकसाथ यूपीए के बैनर के तले लाने की कोशिश में लगी है तो वहीं कुछ वरिष्ठ और महत्वाकांक्षी नेताओं की कोशिश तीसरे फ्रंट को साकार रूप देने की है. वहीं दूसरी ओर राजनीतिक जानकार इस मुलाकात को इसलिए भी अहम मान रहे हैं क्योंकि उत्तर प्रदेश और बिहार में इस वक्त महागठबंधन को मजबूत करने की कवायद तेज हो रही है.और इसमें लालू प्रसाद यादव की भूमिका महत्वपूर्ण हो सकती है.

शत्रुघ्न सिन्हा के इस अप्रत्याशित कदम के पीछे राजनीतिक जानकारों का कहना है कि शत्रुघ्न सिन्हा का विपक्ष के लिए उदार और अपनी सरकार को फटकार वाला रुख नया नहीं है. वो कई सालों से मोदी सरकार से नाराज चल रहे हैं और समय-समय पर ट्वीट और बयान के जरिए अपना गुस्सा निकालते रहे हैं. ऐसे में अगर वे गठबंधन की ओर झुकते हैं तो इसमें कुछ नया नहीं होगा.

advt
Back to top button