राजनीति

शिवसेना: शिवसेना को ‘उखाड़ फेंकने’ की कोशिश कर रही है बीजेपी

शिवसेना की अपनी सहयोगी पार्टी बीजेपी पर करारा हमला बोला है. शिवसेना ने सोमवार को दावा किया कि केवल ‘एक पार्टी’ के पास ‘अकूत धन’ है. यह पार्टी ‘लोगों द्वारा खारिज’ किए जाने के बावजूद गोवा और मणिपुर में सत्ता में आई है.

उसने दावा किया कि इस धन का इस्तेमाल शिवसेना को ‘उखाड़ फेंकने’ की कोशिश में किया जा रहा है.
शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ के छपे संपादकीय में लिखा गया है, ‘नोटबंदी के बाद लोगों ने मंदी का दौर देखा. लेकिन एक पार्टी लगातार ऊपर चढ़ती गई और लोगों द्वारा खारिज किये जाने के बावजूद गोवा और मणिपुर में सत्ता में आई.’

आपको बता दें कि इस साल मार्च में बीजेपी ने गोवा और मणिपुर में बहुमत से दूर रह जाने के बावजूद सरकार का गठन किया था.
संपादकीय में कहा गया है कि जनता यह देख रही है कि कौन सी पार्टी ‘पैसों के दम पर सौदेबाजी में लगी’ हुई है. इसमें कहा गया है, ‘इसी धन का इस्तेमाल शिवसेना को उखाड़ फेंकने में किया जा रहा है.’

गठबंधन के वरिष्ठ सहयोगी का हवाला देते हुए और बीजेपी का नाम लिए बगैर संपादकीय में लिखा गया है कि पार्टी यह ‘डींग मारती’ है कि शिवसेना की समर्थन वापसी के बावजूद महाराष्ट्र में उसकी सरकार स्थिर रहेगी.

अकूत धन’ के बल पर डींग मार रही है बीजेपी
शिवसेना ने कहा कि ‘अकूत धन के बल पर ही यह डींग मारी जा रही है. यह आश्चर्यजनक है कि उनके खिलाफ जांच के लिए किसी ने भी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को संपर्क नहीं किया है’. इसमें यह भी दावा किया गया है कि कारोबारियों के पैसों के जोर पर वृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) पर भी कब्जा करने का प्रयास किया गया.

संपादकीय में कहा गया है कि महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) के छह पार्षदों के शामिल होने से शिवसेना की बढ़ती ताकत से विपक्षी कांग्रेस और एनसीपी भी उतने बेचैन नहीं हैं जितनी ‘अकूत धन वाली पार्टी’ है.

Summary
Review Date
Reviewed Item
शिवसेना
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.