राफेल विमान सौदे पर कैग की रिपोर्ट की सच्चाई पर शिवसेना ने उठाया सवाल

महाराष्ट्र और केंद्र में बीजेपी की गठबंधन साझेदार है शिवसेना

मुम्बई: महाराष्ट्र और केंद्र में बीजेपी की गठबंधन साझेदार होने के बाद भी शिवसेना बीजेपी पर हमला करते हुए नहीं थक रहे है. शिवसेना ने एक बार फिर केंद्र शासित बीजेपी पर हमला बोला है. इस बार कैग राफेल सौदा मामले में सवाल उठाते हुए कहा कि हो सकता है कि इसमें हेरफेर किया गया हो.

शिवसेना प्रवक्ता मनीष कयांदे ने सवाल किया कि केंद्र सरकार ने लड़ाकू विमान सौदे की संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) द्वारा जांच की मांग स्वीकार क्यों नहीं की. कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्षी दलों ने पूर्व में जेपीसी जांच की मांग की थी.

इससे पहले दिन में भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि 36 लड़ाकू राफेल विमानों की खरीद के लिए एनडीए सरकार ने जो सौदा किया वह इन विमानों की खरीद के लिए 2007 में तत्कालीन यूपीए सरकार की वार्ता पेशकश की तुलना में 2.86 फीसदी सस्ता है.

कयांदे ने आरोप लगाया, ”कैग रिपोर्ट में हेरफेर किये जाने की आशंका है जैसा अन्य संस्थानों के मामले में हुआ है.” उन्होंने आरोप लगाया, ”सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय का पूर्व में दुरुपयोग किया गया है. बीजेपी वही कर रही है जो पहले कांग्रेस ने किया है.”

Back to top button