राष्ट्रीय

अविश्वास प्रस्ताव पर मोदी सरकार के साथ नहीं खड़ी होगी शिवसेना

नई दिल्ली: टीडीपी के एनडीए गठबंधन से बाहर जाने के फैसले के बाद मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के मुद्दे पर गठबंधन के अंदर राजनीति तेज़ हो गई है. शिवसेना ने संकेत दिया है कि वह अविश्वास प्रस्ताव का न तो विरोध करेगी और न ही समर्थन करेगी.

मोदी सरकार से तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) अपने संबंध समाप्त कर चुकी है. ठीक ऐसे वक्त पर शिवसेना भी उसका साथ न देने की बात कह रही है. लोकसभा में टीडीपी के 16 और शिवसेना के 18 सांसद हैं. यदि अविश्वास प्रस्ताव आता है तो मोदी सरकार को इन 34 सांसदों का समर्थन नहीं मिलेगा.

एनडीटीवी से बातचीत में शिवसेना के वरिष्ठ लोकसभा सांसद और नेता चंद्रकांत खैरे ने कहा कि पार्टी अविश्वास प्रस्ताव के दौरान तटस्थ रहेगी. खैरे ने कहा कि इस बारे में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे जल्द ही अंतिम फैसले का ऐलान करेंगे. इसका सीधा मतलब यह हुआ कि अविश्वास प्रस्ताव के सवाल पर शिवसेना बीजेपी के साथ खड़ी फिलहाल नहीं दिखाई दे रही है.

खैरे ने कहा कि टीडीपी के एनडीए छोड़ने के बावजूद बीजेपी लीडरशिप ने सहयोगी दलों से कोई बातचीत नहीं की है. उन्होंने इस बात पर नाराज़गी जताई कि टीडीपी के बाहर जाने के बाद भी शिवसेना लीडरशिप से बीजेपी नेतृत्व ने कोई संपर्क नहीं किया है.

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *