शिवराज सिंह चौहान ने विधायकों के साथ मंत्रालय पार्क में गाया वंदे मातरम

एमपी में कमलनाथ सरकार आने के बाद वंदे मातरम् गायन को बंद कर दिया गया, लेकिन विवादों में घिरता देख वह अपने बयान से पलट गए

भोपाल।

एमपी में कमलनाथ सरकार आने के बाद वंदे मातरम् गायन को लेकर छिड़ा विवाद नए मोड़ पर पहुंच गया है. सोमवार को शिवराज सिंह चौहान ने विधायकों के साथ भोपाल में मंत्रालय पार्क पहुंच वंदे मातरम् गाया. इस दौरान उनके साथ भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह भी मौजूद रहे.

1 जनवरी को सरकारी दफ्तरों में नहीं गाया गया वंदे मातरम

दरअसल, 1 जनवरी 2019 को नए साल के अवसर पर जब सरकारी दफ्तरों में वंदे मातरम् नहीं गाया गया तो भारतीय जनता पार्टी भड़क गई. शिवराज सिंह चौहान के शासनकाल के दौरान यहां पर हर पहली तारीख को वंदे मातरम् गाया जाता था.

बीजेपी सरकार के दौरान यह सामूहिक गान मंत्रालय परिसर में मंत्री की मौजूदगी अथवा मुख्य सचिव की उपस्थिति में होता था.

हां पहुंच पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, ”कांग्रेस की सरकार ने वंदे मातरम पहले बंद किया, लेकिन विरोध हुआ और उस पर हमारे मध्य प्रदेश के नागरिकों का दबाव पड़ा, तो इसे नए स्वरूप में लागू करने की बात कही है. वंदे मातरम का कोई नया पुराना स्वरूप नहीं होता, वंदे मातरम सिर्फ वंदे मातरम है.”

1
Back to top button