छत्तीसगढ़

फूलों की बौछार के साथ शोभायात्रा संपन्न

फूलों की बौछार के साथ शोभायात्रा संपन्न

रायपुर : सिक्ख समाज द्वारा आज धूमधाम से भव्य नगर कीर्तन शोभायात्रा निकाली गयी। यह शोभायात्रा गुरूद्वारा स्टेशन रोड से प्रारम्भ होकर गुरूद्वारा बाबा बुढ्ढ साहिब में सम्पन्न हुआ। शोभायात्रा के मार्ग पर आरडीए अध्यक्ष एवं भाजपा प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव एवं भाजपा नेताओं द्वारा फूलों की बौछार करके स्वागत किया साथ ही पंचप्यारों को माला पहनाकर उनका आशिर्वाद लिये ।

इस मौके पर श्रीवास्तव ने कहा कि गुरू नानक देव सिखों के प्रथम गुरू थे। गुरु नानक देवजी का प्रकाश (जन्म) 15 अप्रैल 1469 ई. (वैशाख सुदी 3] संवत 1526 विक्रमी) में तलवंडी रायभोय नामक स्थान पर हुआ एवं सुविधा की दृष्टि से गुरु नानक का प्रकाश उत्सव कार्तिक पूर्णिमा को मनाया जाता है एवं तलवंडी अब ननकाना साहिब के नाम से जाना जाता है।

उन्होने आगे कहा कि बचपन से ही गुरूनानक देव के मन में आध्यात्मिक भावनाएँ मौजूद थीं। जिस समय अंधविश्वास जन-जन में व्याप्त थे। आडंबरों का बोलबाला था और धार्मिक कट्टरता तेजी से बढ़ रही थी। उस समय गुरूनानक देव इन सबके विरोधी थे एवं जब नानक का जनेऊ संस्कार होने वाला था तो उन्होंने इसका विरोध भी किया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button