अमेजन और फ्लिपकार्ट को झटका, कर्नाटक हाईकोर्ट ने खारिज की CCI जांच के खिलाफ याचिका

जनवरी में सीसीआई ने दिए थे जांच के आदेश

बेंगलुरु: कर्नाटक हाईकोर्ट (Karnataka High Court) से दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन (Amazon) और फ्लिपकार्ट (Flipkart) को झटका लगा है. दरअसल, हाईकोर्ट ने भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग यानी सीसीआई (Competition Commission of India) जांच के खिलाफ रिट याचिका खारिज कर दी. हाईकोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि सीसीआई (CCI) अमेजन और फ्लिपकार्ट के खिलाफ प्रतिस्पर्धा कानूनों के प्रावधानों का कथित उल्लंघन की जांच कर सकता है.

यह मामला लगभग 18 महीने पहले शुरू हुआ था, जब दिल्ली में स्मॉल और मीडियम बिजनेस मालिकों का प्रतिनिधित्व करने वाले ग्रुप दिल्ली व्यापार महासंघ यानी डीवीएम (Delhi Vyapar Mahasangh) ने देश के दो सबसे बड़े ई-कॉमर्स प्लेयर्स अमेजन और फ्लिपकार्ट के खिलाफ सीसीआई में एक याचिका दायर की थी, जिसमें उन पर कथित प्रतिस्पर्धा विरोधी आचरण अपनाने, बहुत ज्यादा छूट देकर कदाचार करने और अपने पसंदीदा दुकानदारों के साथ तालमेल के आरोप लगाया गया था.

हाईकोर्ट की दो जजों की बेंच या सुप्रीम कोर्ट में जाने का विकल्प अदालत ने अंतरिम आदेश के दो सप्ताह के विस्तार के लिए फ्लिपकार्ट के वरिष्ठ वकील की याचिका को भी खारिज कर दिया. यह आदेश न्यायमूर्ति पीएस दिनेश कुमार ने सुनाया. अमेजन और फ्लिपकार्ट के पास अब या तो हाईकोर्ट की दो जजों की बेंच या सुप्रीम कोर्ट में जाने का विकल्प होगा.

जनवरी में सीसीआई ने दिए थे जांच के आदेश

बता दें कि सीसीआई ने दिल्ली व्यापार महासंघ सहित व्यापारियों के संगठनों की शिकायत पर जनवरी में अमेजन और फ्लिपकार्ट के खिलाफ कथित आरोपों की जांच का आदेश दिया था. इसके खिलाफ अमेजन ने फरवरी में कर्नाटक हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी. हाईकोर्ट ने राहत प्रदान करते हुए सीसीआई जांच के आदेश पर अंतरिम रोक लगा दी थी.

स्मार्टफोन के लॉन्च पर चुनिंदा विक्रेताओं को तरजीह देने का आरोप

अक्टूबर 2019 में, दिल्ली व्यापार महासंघ ने आरोप लगाया था कि अमेजन और फ्लिपकार्ट अपने ऑपरेशंस, विशेष रूप से स्मार्टफोन के लॉन्च पर चुनिंदा विक्रेताओं को तरजीह दे रहे हैं.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button