शूटिंग 2022 कॉमनवेल्थ गेम्स में बरकरार

राष्ट्रमंडल खेलों में निशानेबाजी की स्थिति पिछले कुछ समय से चर्चा का विषय

नई दिल्ली: राष्ट्रमंडल खेल महासंघ (सीजीए) ने आज साफ किया है कि शूटिंग को 2022 के राष्ट्रमंडल खेलों से हटाया नहीं जायेगा और यह वैकल्पिक वर्ग में बना रहेगा। इस बीच खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ और भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने भी साफ किया कि निशानेबाजी को अभी बाहर नहीं किया गया है और इसे खेलों में बनाये रखने के लिये वे अपनी तरफ से सर्वश्रेष्ठ प्रयास करेंगे।

सीजीएफ के सीईओ डेविड ग्रेवमबर्ग ने उन रिपोर्टों का खंडन किया जिनमें कहा गया था कि निशानेबाजी को बर्मिंघम खेलों से हटा दिया गया है।

ग्रेवमबर्ग ने कहा, ‘मीडिया की गलत रिपोर्टों के जवाब में राष्ट्रमंडल खेल महासंघ (सीजीएफ) स्पष्ट करना चाहेगा कि निशानेबाजी को इंग्लैंड के बर्मिंघम में 2022 में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों से हटाया नहीं गया है।’

उन्होंने कहा, ‘सीजीएफ साफ करना चाहता है कि निशानेबाजी हमेशा की तरफ वैकल्पिक खेल है और राष्ट्रमंडल खेलों के मेजबान शहर के पास इसको अपने खेल कार्यक्रम में शामिल करने की विकल्प रहता है।’

राष्ट्रमंडल खेलों में निशानेबाजी की स्थिति पिछले कुछ समय से चर्चा का विषय रहा है क्योंकि बर्मिंघम ने इस खेल के लिये सुविधाएं जुटाने को लेकर अपनी असमर्थतता जतायी है। लेकिन खेल मंत्री और ओलंपिक रजत पदक विजेता निशानेबाज राठौड़ ने भी कहा कि इस खेल को राष्ट्रमंडल खेलों में बनाये रखने के लिये कोशिश की जा रही हैं।

राठौड़ ने गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों के लिये भारतीय टीम की पोशाक के अनावरण के अवसर पर एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘इस संदर्भ में खेल मंत्रालय की तरफ से पत्र भेजा गया है। हम अपनी तरफ से पूरे प्रयास कर रहे हैं कि इस खेल को राष्ट्रमंडल खेलों में बनाया रखा जाए। इस बारे में अभी अंतिम फैसला नहीं किया गया है।’

आईओए महासचिव राजीव मेहता ने भी कहा कि निशानेबाजी को अभी 2022 खेलों से बाहर नहीं किया गया है। उन्होंने कहा, ‘आईओए ने निशानेबाजी को राष्ट्रमंडल खेलों में बनाये रखने के लिये अपनी तरफ से हर संभव प्रयास करेगा। अभी अक्तूबर में बैठक होनी है जिसमें इस पर चर्चा की जाएगी।’

निशानेबाजी को अगर राष्ट्रमंडल खेलों से बाहर किया जाता है तो यह भारत के लिये करारा झटका होगा क्योंकि उसने अब तक इन खेलों की निशानेबाजी स्पर्धा में 56 स्वर्ण सहित 118 पदक जीते हैं और वह इस सूची में दूसरे स्थान पर है।

new jindal advt tree advt
Back to top button