भारत के प्लान ‘कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रिन’ के जवाब में पाक PM का दंभ

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी (Shahid Khaqan Abbasi) ने भारत का नाम लिए बिना कहा है कि उनके पास कम दूरी के परमाणु हथियार हैं, जो हर पल एक्शन के लिए तैयार रहते हैं.

पाक पीएम के इस बयान को भारत से जोड़कर देखा जा रहा है. भारतीय सेना ने पाकिस्तान को महज 48 घंटे में नेस्तनाबूद करने के लिए ‘कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रिन’ (Cold start doctrine) बनाया है.

पाक पीएम ने भारत के इसी युद्ध नीति को ध्यान में रखकर कम दूरी के परमाणु हथियार होने की बात कही है. संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में भाग लेने के लिए न्यू यॉर्क पहुंचे अब्बासी ने यह बयान दिया है.

पाक पीएम खाकान अब्बासी ने कहा कि देश के परमाणु शस्त्रागार पूरी तरह से सुरक्षित हैं. उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी परमाणु हथियार तक आतंकी की पहुंच होने के आरोब बेबुनियाद हैं. पाकिस्तानी परमाणु हथियार पूरी तरह सुरक्षित हैं.

अमेरिकी थिंक-टैंक काउंसिल ऑन फॉरन रिलेशंस के कार्यक्रम में पीएम अब्बासी ने कहा कि समय के साथ यह साबित हो चुका है कि हमारी पूरी प्रक्रिया काफी सुरक्षित है.

इसने न्यूक्लियर कमांड अथॉरिटी (एनसीए) के जरिये जांट की पूरी प्रक्रिया पार की है. जब उनसे पूछा गया कि भारत ने ‘कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रिन’ विकसित किया है.

इसके जवाब में पाक पीएम ने कहा कि हमने कम दूरी के परमाणु हथियार तैयार कर लिए हैं.

 

‘शांति निपटाएंग कश्मीर मुद्दा’

इससे पहले पाकिस्तान ने कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के घोषणापत्र को लागू करने की मांग करते हुए कहा है कि वह जम्मू कश्मीर में आत्म निर्णय के अधिकार का समर्थन करता रहेगा.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने अपने पूर्वी पड़ोसी के साथ कश्मीर को अहम मुद्दा बताते हुए भरोसा जताया कि इस घोषणापत्र से इस विवादित मुद्दे को हल करने में मदद मिलेगी.

अब्बासी ने न्यूयॉर्क में विदेश संबंधों की परिषद की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, ‘मुझे लगता है कि मूल मुद्दा कश्मीर है.

सुरक्षा परिषद के घोषणापत्र को लागू करना एक बड़ी शुरुआत होगी जिससे एक-दूसरे की चिंताओं को हल करने और इस क्षेत्र तथा पाकिस्तान और भारत के बीच शांति स्थापित करने में मदद मिलेगी. यह दोनों देशों के बीच अहम मुद्दा है.’

‘कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रिन’ से क्यों डरता है पाकिस्तान?

भारतीय फौज ने युद्ध कला ‘कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रिन’ विकसित किया है. इसके तहत किसी भी दुश्मन देश को महज 48 घंटे में नष्ट कर दिया जाता है.

युद्ध के हालात बनने पर भारत इस युद्ध कला को एक साथ पंजाब और राजस्थान से पाकिस्तान पर आजमाने में सक्षम है.

कोल्ड स्टार्ट सिद्धांत का एक उद्देश्य युद्ध की स्थिति में पाकिस्तान को परमाणु हमले से रोकना है, क्योंकि उसे परमाणु हमले के लिए जरा भी समय नहीं देना है.

इस योजना में मूलत: तेजी से हमले पर जोर दिया गया है. बख्तरबंद वाहन और तोपखाना पाकिस्तान के इलाके में कम-से-कम समय में प्रवेश कराया जा सकता है.

Back to top button