ऑनलाइन पोर्टल कारोबार के खिलाफ दिखा बंद का असर, नहीं खुलीं दुकानें

सुरक्षा के लिहाज से शहर में कई इलाकों में पुलिस बल तैनात

रायपुर :

ई-कॉमर्स कंपनियों और ऑनलाइन पोर्टल पर दवाइयों की बिक्री के खिलाफ 28 सितंबर को शहर और जिले में दवाइयों की दुकानें बंद रहेंगी। मप्र केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के साथ इंदौर केमिस्ट एसोसिएशन ने भी एक दिन के बंद का ऐलान किया है।

व्यापारियों का कहना है कि सरकार बहुराष्ट्रीय कंपनियों को पिछले दरवाजे से एंट्री देकर छोटे व्यापारियों को खत्म करने का प्रयास कर रही है। रिटेल में एफडीआई आने से छोटे व्यापारियों की आजीविका पर असर पड़ेगा, वे लगभग खत्म हो जाएंगे।

मौजूद नियम के अनुसार वॉलमार्ट को भारते में व्यापार करने की अनुमति नहीं मिलनी चाहिए, लेकिन फ्लिपकार्ट के साथ हिस्सेदारी कर वह पिछले दरवाजे से प्रवेश कर रहा है।

दूसरी ओर ई फार्मेसी के विरोध में देशभर के दवा विक्रेता भी सड़कों पर उतर आए हैं। वे शुक्रवार को एकदिवसीय हड़ताल करेंगे। मेडिकल स्टोर संचालकों का कहना है कि वे आज दुकानें बंद कर जिला मुख्यालय में विरोध प्रदर्शन करेंगे। मांगे पूरी नहीं होने पर चरणबद्ध आंदोलन किया जाएगा।

छत्तीसगढ़ में दिखा असर

भारत बंद का असर छत्तीसगढ़ में की राजधानी रायपुर में सुबह से दिखा। व्यापारियों ने सुबह से ही शहर की दुकानों को बंद करवाया। चैंबर ऑफ कॉमर्स सहित साथ कई संगठनों ने बंद को लेकर समर्थन दिया।

दुकनों को बंद करवाने के दौरान पुलिस और व्यापारियों के बीच जमकर नोकझोंक हुई। सुरक्षा के लिहाज से शहर में एमजी रोड सहित कई इलाकों में पुलिस बल तैनात किए गए हैं।

Back to top button