ममता सरकार को याद आए श्यामा प्रसाद मुखर्जी, मनाएगी पुण्यतिथि

सियासत गरमाई, विपक्षी एकता को झटका

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी की सरकार ने एक अप्रत्याशित कदम उठाते हुए पहली बार भारतीय जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि मना रही है। उनके इस निर्णय पर राज्य में राजनीति शुरू हो गई है।

सीपीआईएम ने तो इसे भाजपा और तृणमूल कांग्रेस की ‘मिलीभगत’ करार दिया है तो भाजपा भी टीएमसी पर कटाक्ष करने से नहीं चूकी। उसने कहा कि ममता बनर्जी को हर जगह भाजपा का भूत दिखाई दे रहा है।

सूचना एवं संस्कृति विभाग की तरफ से इसके लिए औपचारिक निमंत्रण पत्र जारी किया गया है। इसके अनुसार, श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि के अवसर पर पश्चिमी कोलकाता के केवड़ातल्ला श्मशान घाट में आयोजित विशेष कार्यक्रम में पश्चिम बंगाल सरकार के मंत्री फिरहद हकीम और सोवनदेब चट्टोपाध्याय शामिल होंगे।

टीएमसी और बीजेपी में जुबानी जंग

तृणमूल नेता सोवनदेब चट्टोपाध्याय ने कहा कि आज अगर श्यामा प्रसाद मुखर्जी होते तो वह राजनीतिक फायदे के लिए भाजपा के सांप्रदायिक एजेंडे को कभी स्वीकार नहीं करते। भाजपा धर्म को राजनीति से जोड़ रही है और राजनीतिक फायदे के लिए घृणा का वातावरण तैयार कर रही है।

इस पर भाजपा नेता प्रताप बनर्जी ने कटाक्ष किया कि ममता बनर्जी को हर जगह भाजपा का भूत दिखाई दे रहा है। यही वजह है कि अचानक उन्हें श्यामा प्रसाद मुखर्जी याद आ गए।

महान विभूतियों को सम्मान देना हमारी परंपरा : टीएमसी

इस वार-पलटवार में हिस्सा लेते हुए तृणमूल कांग्रेस की नेता और कोलकाता म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन की अध्यक्ष माला रॉय ने कहा कि महान विभूतियों को सम्मान देना हमारी परंपरा है।

उन्होंने कहा कार्यक्रम की जानकारी देते हुए कहा कि पहले श्यामा प्रसाद मुखर्जी की तांबे की प्रतिमा का अनावरण होगा। उसके बाद उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित की जाएगी।

बता दें कि मार्च में त्रिपुरा में भाजपा की जीत के बाद भाजपा और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के समर्थकों ने महान साम्यवादी नेता और रूस के क्रांतिकारी नेता व्लादिमीर लेनिन की प्रतिमा को तोड़ दी थी।

इसके बाद विरोध में वाम समर्थकों ने पश्चिम बंगाल में श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा तोड़ दी गई थी। बाद में राज्य सरकार ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी की नई प्रतिमा लगवाई गई थी और घटना में शामिल लेफ्ट समर्थकों पर कड़ी कार्रवाई करते हुए उन्हें गिरफ्तार भी किया था।

Back to top button