अभनपुर में बदलाव के संकेत, गठबंधन होगा बड़ा फैक्टर

रायपुर।

छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद अभनपुर सामान्य विधानसभा सीट के नतीजे भी हर चुनाव में बदलते रहे हैं। वर्तमान में यहां से कांग्रेस धनेंद्र साहू विधायक चुने गए हैं।

साल 2003 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने यहां धनेंद्र साहू को अपना उम्मीदवार बनाया था। वहीं भाजपा की ओर उनके पुराने प्रतिद्वंद्वी चंद्रशेखर साहू मैदान में थे। इस चुनाव में कांग्रेस के धनेंद्र साहू , भाजपा के चंद्रशेखर साहू को सीधे मुकाबले में 227 मतों के मामूली अंतर से हरा कर विधानसभा में पहुंचने में कामयाब रहे। कांग्रेस के धनेंद्र साहू को 51122 मत मिले वहीं भाजपा के चंद्रशेखर साहू को 50895 मतों से संतोष करना पड़ा।

साल 2008 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने अपने पुराने चेहरे चंद्रशेखर साहू को दोबारा मैदान में उतारा। वहीं कांग्रेस ने धनेंद्र साहू को मौका दिया। इस चुनाव में भाजपा को जीत मिली और कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा। सीधे मुकाबले में भाजपा के चंद्रशेखर साहू ने कांग्रेस के धनेंद्र साहू को 1490 मतों से हराया। भाजपा के चंद्रशेखर साहू को 56249 मत मिले वहीं कांग्रेस के धनेंद्र साहू को 54759 मतों से संतोष करना पड़ा।

साल 2013 के विधानसभा चुनाव में मतदाताओं ने बदलाव पर मुहर लगाई और कांग्रेस इस सीट पर जीत का परचम लहराने में कामयाब रही। इस चुनाव में भाजपा और कांग्रेस के पुराने चेहरे चंद्रशेखर साहू और धनेंद्र साहू में ही सीधा मुकाबला था। कांग्रेस के धनेंद्र साहू ने सीधे मुकाबले में भाजपा के चंद्रशेखर साहू को 8354 मतों से हराया। कांग्रेस के धनेंद्र साहू को 67926 मत मिले वहीं भाजपा के चंद्रशेखर साहू को 59572 मतों से संतोष करना पड़ा।

आने वाले चुनाव में उलटफेर नतीजों वाली अभनपुर विधानसभा सीट पर कांग्रेस को एंटी इनकम्बेंसी फैक्टर का डर सता रहा है तो भाजपा पूरे दमखम से अपनी पुरानी सीट पर जीत के लिए प्रयास करती दिख रही है। इस बार जोगी-बसपा गठबंधन ने अपने उम्मीदवार की घोषणा कर दी है। ऐसे में त्रिकोणीय मुकाबले के आसार हैं।

Back to top button