छत्तीसगढ़

सिम्स में जल्द ही मिलेगी सीटी स्केन और एमआरआई की सुविधा

विकल्प तललवार

बिलासपुर।

एसईसीएल सिम्स को करीब 21 करोड़ की एमआरआई व सीटी स्केन मशीनों की सौगात देगा। इसके लिए अगस्त में टेंडर भी हो चुके हैं। सब कुछ ठीक रहा तो आने वाले कुछ दिनों में सिम्स में उच्च स्तरीय रेडियोलॉजी की सुविधा उपलब्ध हो जाएगी। दोनों मशीनों से शरीर के अंगों का सूक्ष्म परीक्षण करना आसान हो जाएगा। सूक्ष्म से सूक्ष्म नर्व व ब्रेन.हार्ट के बारीक अंगों की जांच कर उनका इलाज सिम्स में ही संभव हो सकेगा। अभी सिम्स में एमआरआई मशीन नहीं है और सीटी स्केन मशीन विगत दो माह से खराब है। मरीजों को प्राइवेट अस्पतालों में जांच करानी पड़ती है।

अनुबंध से हो रही सीटी स्केन:

सिम्स में प्रतिदिन एमआरआई के 2 से 3 मरीज और सीटी स्केन के करीब 15 मरीज पहुंचते हैं। दोनो मशीनें न होने के कारण सिम्स प्रबंधन ने वैकल्पिक तौर पर प्राइवेट स्केनरों से टाइअप किया है। जिसमें प्रतिदिन 15 मरीजों की सीटी स्केन जांच सरकारी रेट पर की जा रही है। वहीं एमआरआई के लिए प्रतिदिन 2 से 3 मरीज रायपुर भेजे जाते हैं। शहर में केवल अपोलो में एमआरआई मशीन है और शहर में प्राइवेट में भी 5 सीटी स्केन मशीनें हैं। मरीज प्राइवेट में भी जांच करवाते हैं।

मशीनों से स्वास्थ्य सुविधाओं का होगा विकास: विशेषज्ञ डॉक्टरों की मानें तो सिम्स में एमआरआई और सीटी स्केन मशीन आने से क्षेत्र की स्वास्थ्य सुविधाएं बढ़ जाएंगी। एक्स.रे में जहां केवल टू वे व्यू से जांच करते हैं वहीं सीटी स्केन और सूक्ष्मतम जांच के लिए एमआरआई से बारीक से बारीक जांच संभव होगी। उच्च स्तरीय रेडियोलोजी की सुविधा से गरीबों को इसका सीधा फायदा होगा। एक्सीडेंटल सिर में लगी चोटों को समय पर देख लिया जाएगा और मरीजों की जान बचाई जा सकेगी।

एसईसीएल ने जारी कर दिया है टेंडर

जब सिम्स की सीटी स्केन मशीन खराब हुई और लोगों की परेशानियां बढ़ी तो राज्य शासन की व्यवस्था से पहले ही एसईसीएल ने सिम्स को करीब 6 से 7 करोड़ की आधुनिक सीटी स्केन और करीब 15 करोड़ की एमआरआई मशीन देने की घोषणा कर दी थी। इसके लिए अगस्त में एसईसीएल ने टेंडर जारी कर दिए हैं।

प्रक्रिया चल रही

सिम्स की सीटी स्केन मशीन खराब हैए लेकिन हमने प्राइवेट स्केनरों से टाइअप किया है। सिम्स पहुंचने वाले मरीजों की सरकारी रेट पर प्राइवेट में जांच कराई जाती है। एसईसीएल द्वारा सीटी स्केन और एमआरआई मशीन दी जा रही है। प्रक्रिया चल रही है।

Tags
Back to top button