सिंघु बॉर्डर: टिकैत ने लखीमपुर को सही नहीं ठहराया होता तो नहीं होती व्यक्ति की हत्या…

नई दिल्ली. भाजपा (BJP) के आईटी विभाग के प्रभारी अमित मालवीय (Amit Malviya) ने गुरुवार को हरियाणा के सोनीपत जिले के कुंडली में सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर एक विरोध स्थल के पास एक व्यक्ति की हत्या के बाद किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) के एक बयान का हवाला देते हुए उन्हें दोषी ठहराया. मालवीय ने इस मामले पर एक ट्ववीट में कहा- ‘बलात्कार, हत्या, वैश्यावृत्ति, हिंसा और अराजकता… किसान आंदोलन के नाम पर यह सब हुआ है. अब हरियाणा के कुंडली बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या… आखिर हो क्या रहा है? किसान आंदोलन के नाम पर यह अराजकता करने वाले ये लोग कौन हैं जो किसानों को बदनाम कर रहे हैं?’ मालवीय ने कहा- ‘अगर राकेश टिकैत ने लखीमपुर में हुई मॉब लिंचिंग को सही नहीं ठहराया होता तो सिंघु बॉर्डर पर एक युवक की हत्या नहीं हुई होती. किसानों के नाम पर इन विरोध प्रदर्शनों के पीछे की अराजकतावादियों को बेनकाब करने की जरूरत है.’

बता दें सिंघु बॉर्डर पर किसानों के मंच के पास एक युवक की बेरहमी से हत्या के बाद एक हाथ काटकर शव बैरिकेड से लटका दिया गया है. यह घटना गुरुवार रात की बताई जा रही है. जब शुक्रवार की सुबह आंदोलनकारियों ने मुख्य मंच के पास युवक का शव लटका देखा, तो हड़कंप मच गया. जबकि युवक के शव को 100 मीटर तक घसीने की बात भी की जा रही है.

इस मामले को लेकर सोनीपत के DSP हंसराज ने कहा कि थाना कुंडली में सूचना मिली कि जो किसान आंदोलन चल रहा है. उसकी स्टेज के पास एक व्यक्ति के हाथ पैर काटकर मृत लटकाया हुआ है. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर लोगों से पूछताछ की, लेकिन अभी कुछ खुलासा नहीं हो पाया है. अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. मामले की जांच जारी है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button