मजबूती के साथ शुरुआत करने वाले मानसून की धीमी हो रही रफ्तार

सिंगापुर : पिछले माह के अंत में दक्षिण भारत पहुंचे मानसून की रफ्तार धीमी हो गयी है। धीमी रफ्तार को देखते हुए कहा जा रहा है कि देश के उत्तर पश्चिमी इलाके में बारिश में देरी हो सकती है। इस बात की जानकारी अमेरिका के मौसम भविष्यवक्ता ने दी है।

सामान्यतौर पर केरल में मॉनसून 1 जून को पहुंचता है। पर इस बार कुछ दिन पहले ही केरल में मानसून की बौछार हो गयी जिसे किसान ने अच्छे संकेत के तौर पर देखा। केरल के बाद मानसून उत्तर की ओर बढ़ता है और 15 जुलाई तक पूरे देश को कवर कर लेता है। इस साल जल्दी बारिश शुरू होने को किसानों के लिए अच्छे संकेत के तौर पर देखा जा रहा है। ऐसे में वे खरीफ की फसलों की बुवाई जल्दी शुरू कर सकते हैं।

रेडिएंट के वरिष्ठ कृषि मौसम विज्ञानी केली टोपेली ने कहा, ‘भारतीय मानसून की दक्षिण भारत में बहुत अच्छी शुरुआत हुई। लेकिन, हमें स्थिति में बदलाव देखने को मिला है, अगले 10 दिनों में हमें ज्यादातर शुष्क मौसम देखने को मिलेगा।‘ उत्तर और पश्चिमी भारत में मानसून देर से आएगा। वाशिंगटन स्थित कंपनी के हेडक्वार्टर से टोपेली ने आगे कहा, कुल चार माह के मानसून सीजन में सामान्य से कम वर्षा होने की संभावना है।

Back to top button