स्मार्ट सिटी की तर्ज पर विकास होगा 2000 मिलिट्री स्टेशनों का

नई दिल्ली: सेना देश के 2000 सैन्य केंद्रों के आधुनिकीकरण की एक योजना पर काम कर रही है. इस योजना को अंतिम रूप दिया जा रहा है. सरकार की स्मार्ट सिटी पहल की तर्ज पर सैन्य केंद्रों का विकास किया जाएगा. सेना के अधिकारियों ने बताया कि महत्वाकांक्षी पहल को लागू करने की पायलट परियोजना के हिस्से के तौर पर 58 सैन्य केंद्रों की पहले ही पहचान की जा चुकी है.उन्होंने कहा कि सभी छावनियां परियोजना का हिस्सा होंगी.

सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘‘हम स्मार्ट सिटी की तरह सैन्य केंद्रों का विकास करने की सोच रहे हैं, जहां सभी आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध होंगी. अत्याधुनिक आईटी नेटवर्क का विकास एक महत्वपूर्ण फीचर होगा.’’ सेना के एक शीर्ष अधिकारी ने हाल में कमांडरों के सम्मेलन के दौरान परियोजना के कार्यान्वयन पर विस्तार से विचार

अधिकारी ने कहा, ‘‘हम समयबद्ध तरीके से देशभर में सभी सैन्य केंद्रों को विकसित करने की योजना बना रहे हैं.’’ यह पहल सेना के संपूर्ण आधुनिकीकरण अभियान का हिस्सा है जिसमें देशभर में उसके सभी सैन्य प्रतिष्ठानों के आधारभूत ढांचों में उल्लेखनीय वृद्धि की परिकल्पना की गई है.

सेना के एक अन्य अधिकारी ने कहा कि सेना लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) डी बी शेकटकर कमेटी की सिफारिशों के आधार पर सुधार को लागू करने के लिये आगे बढ़ रही है. इसमें तकरीबन 57000 अधिकारियों और अन्य रैंक के कर्मचारियों की फिर से तैनाती करना शामिल है ताकि बल की लड़ाकू क्षमता को बढ़ाया जा सके.

Back to top button