केरल में बाढ़ : अब तक 102 लोगों की गई जान, 14 जिलों में रेड अलर्ट

नई दिल्ली : केरल में भारी बारिश से मरने वालों की संख्या में इजाफा हुआ है। अभी तक कुल 102 लोगों की मौत हुई है। पिछले दो दिनों में राज्य में कुल 78 लोगों ने अपनी जान खोई है। इसके अलावा राज्य के शिक्षण संस्थानों को भी 29 अगस्त तक बंद कर दिया गया है। इससे पहले पेरियार नदी पर बने बांध का फाटक खोलने से कोच्चि हवाई अड्डा में पानी घुस गया। इसके बाद हवाई अड्डे को शनिवार तक के लिए बंद कर दिया गया। इसके अलावा यहां मेट्रो सेवा भी रोक दी गई है। रोडवेज सर्विस भी रोक दी गई है। प्रदेश में बाढ़ के हालात को देखते हुए सभी 14 जिलों में रेड अलर्ट घोषित कर दिया गया है।

वहीं, इससे पहले सेना ने मलमपुझा के वालियक्काडु गांव में एक 35 फीट लंबे ब्रीज पर फंसे करीब 100 लोगों को बचाया। इसमें बच्चे और वरिष्ठ नागरिक शामिल थे।

कोच्चि में ट्रांसपोर्ट सिस्टम बाधित : बाढ़ की वजह से कोच्चि का ट्रांसपोर्ट सिस्टम भी प्रभावित हुआ है। यहां मेट्रो और बसों की सेवा बंद कर दी है। लोग अपना घर छोड़ सुरक्षित ठिकानों पर जा रहे हैं। चेंगन्नूर की हालत भी बदत्तर बनी हुई है। यहां पूरे शहर में पानी घुस चुका है। मॉल, पेट्रोल पंप सब कुछ पानी में डूब चुका है।

बुधवार को 25 मौतें : मुख्मयंत्री पिनराई विजयन ने बताया कि बुधवार को 25 लोगों की मौत होने के साथ ही राज्य में वर्षाजनित घटनाओं में मरने वालों की संख्या बढ़ कर 67 हो गई है। अधिकारियों के मुताबिक अकेले मल्लापुरम से ही 11 लोगों की मौत की खबर है। विजयन ने कहा कि भारी वर्षा अभी कुछ और दिन जारी रहेगी जिससे स्थिति और बिगड़ेगी। पूरे राज्य में डेढ़ लाख से अधिक लोग राहत शिविरों में रखे गए हैं।

प्रधानमंत्री से बात : विजयन ने कहा कि प्रधानमंत्री ने राज्य के प्रति सकारात्मक रुख अपनाया है। अधिकारियों के अनुसार कसारगोड को छोड़कर बाकी सभी जिलों में शैक्षणिक संस्थानों में छुट्टी की घोषणा कर दी गई है। कॉलेजों और महाविद्यालयों ने परीक्षाएं स्थगित कर दी हैं। राज्य के विभिन्न हिस्सों में विद्युत आपूर्ति, संचार प्रणाली, पेयजल आपूर्ति बाधित है। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री राजनाथ सिंह से राज्य की गंभीर स्थिति पर चर्चा की है। प्रधानमंत्री ने सभी सहायता का आश्वासन दिया है।

उड़ाने बदली : कोच्चि आने-जाने वाले सभी उड़ानों को तिरुवनंतपुरम या कालीकट स्थानांतरित कर दिया गया है। इंडिगो ने ट्वीट कर टिकट कैंसिल कराने के लिए bit.ly/2ndGnZ8 पर लॉन ऑन करने को कहा है जबकि एयर इंडिया ने कोच्चि हवाई अड्डे से जाने-आने वाले विमानों के टिकट कैंसिल कराने के लिए #airindia call centre या #airindia website पर संपर्क करने को कहा है।

ट्रेन सेवाएं ठप : राज्य के कई हिस्सों में ट्रेन सेवा ठप पड़ी हुई है। रेल सूत्रों के अनुसार, भू-स्खलन के कारण कुझिथुराई और इरानियल स्टेशनों पर चार ट्रेनों- गुरुवायूर-चेन्नई इग्मोर एक्सप्रेस, कन्याकुमारी- मुंबई सीएसएमटी एक्सप्रेस, डिब्रूगढ़-कन्याकुमारी विवेक एक्सप्रेस और गांधीधाम- तिरुनेलवेली हमसफर एक्सप्रेस को रोक दिया गया है। कुछ पैसेंजर गाड़ियां खराब मौसम के कारण कोल्लम-पुनालुर-सेनगोट्टाई खंड पर रोक दी गई हैं और कुछ को आंशिक तौर पर रोका गया है।

पर्यटन-धर्म स्थल बंद : अथिराप्पल्ली, पोनमुदी और मन्नार पर्यटन स्थलों को बंद कर दिया गया है। शहर के निचले इलाके में फंसे लोगों को पुलिस और फायर सर्विस के कर्मी बाहर निकालने की हरसंभव कोशिश कर रहे हैं। इनमें से कई लोग तो दोमंजिले मकान की छत पर शरण लिए हुए हैं।

उत्तर में कासरगोड से लेकर दक्षिण में तिरुवनंतपुरम तक सभी नदियां उफान पर है और मुल्लपेरियार सहित सभी 35 बांधों का फाटक खोल दिया है। नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि हमने सभी घरेलू और विदेशी एयरलाइनों से कोच्चि की अपनी उड़ानों के लिए तिरुवनंतपुरम या कालीकट से समय सारणी तय करने को कहा है। अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के संदर्भ में विशेष व्यवस्था की जरूरत होगी जो आपातस्थिति को ध्यान में रखकर मंजूर की गई है। डीजीसीए समन्वय कायम कर रहा है।

बाढ़ पीड़ितों की मदद कर स्वतंत्रता दिवस मनाएं : विजयन
तिरुवनंतपुरम। केरल के मुख्मयंत्री पिनराई विजयन ने बुधवार को जनता से राज्य में पिछले 94 वर्ष में आई सबसे भीषण बाढ़ से निपटने में अधिक से अधिक सहयोग करने का आग्रह किया। बुधवार को तेज बारिश में 72वीं स्वतंत्रता दिवस परेड को संबोधित करते हुए विजयन ने कहा, ‘इस वर्ष हम ऐसे समय स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं जब बाढ़ ने पूरे राज्य में तबाही मचाई हुई है। राज्य ने ऐसी विपदा का सामना पहले कभी नहीं किया। लेकिन, अगर हम सब एक हो जाएं तो हम किसी भी आपदा का सामना कर लेंगे।’ विजयन ने लोगों से मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में उदारतापूर्वक सहयोग देने का आग्रह किया।

Back to top button