इसलिए आतंकवादियों ने अपने ही साथी की कर दी हत्या

कश्मीर के त्राल इलाके में आतंकवादियों ने पुलिस स्टेशन पर ग्रेनेड हमला कर दिया, जिसके चपेट एक पुलिसकर्मी भी आया है. साथ ही इस धमके में एक पूर्व आतंकवादी की भी मौत हो गयी |

कश्मीर के त्राल इलाके में आतंकवादियों ने पुलिस स्टेशन पर ग्रेनेड हमला कर दिया, जिसके चपेट एक पुलिसकर्मी भी आया है. साथ ही इस धमके में एक पूर्व आतंकवादी की भी मौत हो गयी | मिली जानकारी के अनुसार इस युवक का आतंक की राह छोड़ मुख्यधारा में लौटना आतंकवादियों को रास नहीं आया और बदला लेने के लिए उन्होंने पुलिस स्टेशन में ग्रेनेड फेंक उसकी हत्या कर दी.

आपको बता दें कि इस पूर्व
आतंकी की पहचान मुश्ताक अहमद के रूप में की गई है. मुश्ताक पहले हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी था. बाद में उसने बंदूक का साथ छोड़ दिया और अमन के रास्ते पर लौट आया.

बता दें कि कश्मीर में सेना बड़े पैमाने पर ऑपरेशन ऑलआउट चला रही है. सेना ने स्थानीय युवाओं को आतंक का रास्ता छोड़कर ‘घर’ लौटने की अपील भी की थी. ऐसे आतंकियों को मुख्यधारा में शामिल होने के लिए सेना ने कई मुहिम भी चलाई. इसी से प्रभावित होकर बीते कुछ महीने के भीतर कई स्थानीय युवा हिजबुल मुजाहिद्दीन का साथ छोड़कर लौट आए.

यही बात हिजबुल के आतंकियों को अच्छी नहीं लगी और उन्होंने उसे पुलिस कस्टडी में मार डाला. मुश्ताक को पुलिस ने पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था. वहीं पुलिस का कहना है कि पूर्व आतंकी हमले के दौरान भागने की कोशिश कर रहा था, लेकिन वह ग्रेनेड की चपेट में आ गया, जिससे उसकी मौत हो गई.

हाल ही में आतंकियों ने सीआरपीएफ की पेट्रोलिंग पार्टी पर ग्रेनेड हमला किया था. इस हमले में दो जवान घायल हो गए थे. इस हमले के बाद पुलवामा जिले में अलर्ट जारी कर बड़े पैमाने पर सर्च ऑपरेशन चलाया गया था.

आर्मी कैंप पर किया था हमला

सुजवां आर्मी कैंप पर इस महीने की 10 तारीख को जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने हमला किया था. सुंजवां आर्मी कैंप में हुई फायरिंग में 6 जवान शहीद हो गए थे. इसके बाद सेना ने कार्रवाई करते हुए 4 आतंकियों को मार गिराया था.

Back to top button